18 महीनें के बाद छलका मोहम्मद शमी का दर्द, बोला- ‘उन दिनों बहुत कुछ झेला, मगर फिर भी…’!

भारतीय टीम के बेहतरीन गेंदबाजों में शुमार मोहम्मद शमी को पिछले 18 महीने में काफी कुछ झेलना पड़ा, लेकिन उसकी आंच उन्होंने अपनी गेंदबाजी पर नहीं आने दी। जी हां, मोहम्मद शमी ने पर्सनल लाइफ में समस्याओं को झेलते हुए भी इस वर्ल्ड कप में अब तक शानदार गेंदबाजी की है। मोहम्मद शमी को भुवनेश्वर कुमार की जगह टीम में लिया गया, जिसकी वजह से उन्होंने अभी तक केवल दो मैच ही खेले हैं। इन दो मैचों में मोहम्मद शमी ने 8 विकेट चटकाए हैं, जोकि अपने आप में ही एक बड़ी बात है। इस सफलता पर बात करते हुए मोहम्मद शमी भावुक हो गए। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

loading...
वर्ल्ड कप में शानदार प्रदर्शन से पूरी दुनिया में छा जाने वाले मोहम्मद शमी ने हाल ही में एक इंटरव्यू दिया। इंटरव्यू में मोहम्मद शमी से अपनी क़ामयाबी के बारे में पूछा गया, तो उसका जवाब देते हुए वे भावुक हो गए। बता दें कि पिछले कुछ समय से मोहम्मद शमी की लाइफ में कुछ अच्छा घटा नहीं है, जिसकी वजह से अब यह सफलता उनमें एक नई ऊर्जा भरने का कार्य कर रही है, जिसकी वजह से उन्होंने सिर्फ दो मैच में आठ विकेट चटका दिये, जोकि किसी भी गेंदबाज का सपना होता है।

मोहम्मद शमी ने बयां किया अपना दर्द


मोहम्मद शमी से इस कामयाबी का श्रेय पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि मैं खुद लूंगा इस सफलता का श्रेय, क्योंकि पिछले 18 महीनों में मैंने खुद सारी चीज़ें झेली हैं। शमी ने कहा कि मुझे बीसीसीआई सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट से भी बाहर कर दिया गया था, जिसके पश्चात मेरे खिलाफ जांच के आदेश दिए गए थे। साथ ही पर्सनल लाइफ में गाड़ी पटरी पर नहीं थी और मुझे अनफिट घोषित कर दिया गया था, जिसके बाद मैंने खुद मेहनत किया और खुद में निखार लाया।

खुदा ने मुझे हिम्मत दी- मोहम्मद शमी


मोहम्मद शमी ने आगे कहा कि अब पुराना मामला समाप्त हो चुका है, जिसकी वजह से खेल पर फोकस कर पा रहा हूं। हालांकि, खुदा ने मुझे परिस्थितियों से लड़ने की हिम्मत दी, जिसकी वजह से आज मैं फिर खड़ा हो पाया हूं। इतना ही नहीं, शमी ने आगे कहा कि पिछले 18 महीनों में जो भी हुआ, वह मेरे साथ हुआ है तथा सबकुछ मुझे ही झेलना पड़ा, इसलिए मैं सारा श्रेय खुद को दूंगा और अब मेरा पूरा ध्यान बेस्ट प्रदर्शन पर टिका हुआ है, जिसकी वजह से मैंने अपना वजन भी कम किया।

मैं अकेला नहीं था, जो फेल हुआ था- मोहम्मद शमी

यो-यो टेस्ट में फेल होने पर मोहम्मद शमी ने कहा कि मैं अकेला नहीं था, जो फेल हुआ था। कभी कभी व्यक्ति की लय खराब होती है, जिसकी वजह से वह फेल हो जाता है, मगर मैंने हिम्मत नहीं हारी और खुद से लड़ता रहा। शमी ने कहा कि मैंने अपने फिटनेस पर काम किया, जिसकी वजह से आज मैं अच्छे जोन में हूं और आगे भी अच्छा प्रदर्शन करता रहूंगा।