2 साल की उम्र में हुआ देहांत, मगर जब उसकी कब्र में देखा तो पलकें झपका रही थी..!

जन्म और मृत्यु प्रकृति के ऐसे नियम हैं जिनकों आज तक कोई नहीं बदल पाया है। भले ही विज्ञान ने कितनी भी प्रगति कर ली हो मगर कुदरत के इस नियम के आगे वो भी कुछ नहीं कर सकता। जिसने जन्म लिया है उसकी मृत्यु निश्चित है। मृत्यु के बाद व्यक्ति अपने प्राण त्याग देता है, उसका शरीर निर्जीव हो जाता है। मगर आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बताएंगे जिसकी मृत्यु को लगभग 96 साल होने वाले हैं लेकिन आज भी वो अपनी आंखे झपकाती है। सुनकर आपको यकीन नहीं हो रहा होगा। लेकिन ऐसा हकीकत में है। इस लड़की को स्लीपिंग ब्यूटी के नाम से जाना जाता है।

loading...
इटली के छोटे से कस्बे सिसली की राजधानी पैलरमों में एक छोटी सी लड़की थी रोजालिया लोबरडो। बात करीब 100 साल पुरानी है, जब पैलरमो में एक आपदा के कारण 8000 लोग मारे गए थे जिसके चलते महज 2 साल की उम्र में ही रोबारिया का भी देहांत हो गया था। उस आपदा में मारे गए लोगों की कब्र को एक साथ पैलरमो के एक कान्वेंट में संरक्षित किया गया था। मगर कुछ लोगों की नजर उस बच्ची की कब्र पर पड़ी तो सभी  हक्का-बक्का रह गए।

लोगों ने देखा की मरने के बाद भी रोबानिया अपनी पलकें झपका रही हैं। जिसके पश्चात ये बात चारों तरफ फैल गई। लोग दूर-दूर से उस कब्र की एक झलक लेने के लिए आते थे। जिसके चलते उनका नाम स्लीपिंग ब्यूटी रख दिया गया। बता दें कि आज तक ये सिलसिला चलता आ रहा है। अभी भी लोग देश के कोने-कोने से स्लीपिंग ब्यूटी को देखने के लिए पहुंचते हैं।

ये सब जानकर अब मन में सवाल उठ रहा होगा कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है कि कोई मरने के इतने वर्षो बाद तक ऐसा कुछ कर पाए। आखिर कैसे ये लड़की अपनी पलकें झपका लेती है। वहीं रोबानिया की कब्र की देखभाल करने वाले डैरियो की मानें तो ये सब लोगों का महज एक भ्रम मात्र है। दरअसल डैरियो का मानना है कि बच्ची के शव की आंखे पूरी तरह से बंद नहीं है, जिस वजह से लोगों की उसकी पलकें झपकने का आभास होता है।

हालांकि अभी इस बात पर शोध चल रहे हैं कि इस लड़की के शव की पलकें सच में झपकती हैं या ये महज लोगों की आंखो का ऑप्टिकल भ्रम मात्र है। हालांकि वहां की सरकार ने ‘स्लीपिंग ब्यूटी’ के इस लाश को एक कांच के ताबूत में सील करके रखवा दिया है। आज भी कई वैज्ञानिक इस पर शोध कर रहे हैं कि सच में रोबानियां अपनी पलकें झपकाती हैं, अगर हां तो कैसे क्यों कि उसको मरे हुए करीब 100 साल होने वाले हैं या ये महज लोगों का भ्रम मात्र है।