जानिए पाकिस्तान की किताबों में बच्चों को इतिहास के विषय में क्या बताया जाता है..?

भारत और पाकिस्तान के बीच किस प्रकार के ताल्लुकात हैं। हाल ही में भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों के बीच काफी तनाव पूर्ण माहौल चल रहा है। दोनों ही देश की मीडिया एक-दूसरे पर तमाम तरह के इल्जाम लगा रहे हैं। 200 सालों तक अंग्रेजों की गुलामी में रहने के बाद भारत और पाकिस्तान लगभग 71 साल पहले आजाद हुए थे। लेकिन उसके पहले दोनों एक ही मुल्क थे। तो यकीनन सी बात है कि आजादी के पहले दोनों के इतिहास भी एक रहे होंगे। मगर आपको ये बात जानकर हैरानी होगी भले ही दोनों देशों का इतिहास एक रहा हो लेकिन दोनों देश के बच्चे अलग-अलग इतिहास पढ़ते हैं। तो चलिए अब आपको बताते हैं कि आखिर विभाजन, स्वतंत्रता आंदोलन, भारत-पाक के बीच हुए युद्ध के बारे में पाकिस्तान में क्या पढ़ाया जाता है…

loading...
बात जब कश्मीर की आती है तो भारत और पाकिस्तान दोनों ही जगह उसके विषय में अलग जानकारी दी जाती है।भारत की किताबों में कश्मीर को लेकर पढ़ाया जाता है कि कश्मीर के राजा हरि सिंह पहले किसी भी देश के साथ नहीं रहना चाहते थे वो अपना अलग ही साम्राज्य चाहते थे। मगर जब घुसपैठियों ने कश्मीर पर हमला करना शुरू कर दिया तब हरि सिंह ने भारत में शामिल होने का निर्णय ले लिया है। लेकिन वहीं पाकिस्तानी किताबों की बात करें तो उसमें पढ़ाया जाता है कि हरि सिंह ने मुसलमानों के साथ गलत व्यवहार किया जिसके बाद कुछ लड़ाकों ने कश्मीर के बड़े हिस्से को आजाद करवा लिया था, जिसके पश्चात हरि सिंह  नें भारत के साथ मिलने का फैसला लिया।

विभाजन को लेकर पाकिस्तानी किताबों में बताया गया है कि दो देशों के विभाजन में हिंदुओं की गलती थी, उनकी गलत हरकतों के कारण यह विभाजन हुआ था। किताब में लिखा है कि विभाजन के समय जब लोग पाकिस्तान छोड़कर भारत जा रहे थे तब वहां के मुस्लिमों ने उनकी मदद की थी, जबकि वहीं जो मुस्लिम पाकिस्तान से भारत आ रहे थे तो वहां पर मुसलमानों को लूटा जा रहा था तथा उन पर अत्याचार किए जा रहे थे।

वहीं विभाजन को लेकर पाकिस्तान की 12वीं कक्षा की एक किताब में लिखा है कि जब दोनों देश आजाद हुए तब मुस्लिम चाहते थे कि उस समय एक ऐसी सरकार का गठन किया जाए जो पबरी तरह से इस्लाम (कुरान) के नियमों पर बेस्ड हो। हालांकि वो जानते थे कि भारत में हिंदुओं की संख्या अधिक है, इसलिए वहां पर हिंदुओं को ध्यान में रखते हुए ही कानून बनेंगे और इस कानून में मुस्लिम को अछूत की नजर से देखा जाएगा, साथ ही मुसलमानों को डर था कि कहीं मुसलमान हिंदुओं के गुलाम न बन जाएं।

जैसा की सब जानते हैं कि भारत का स्वतंत्रता में महात्मा गांधी का योगदान बहुत महत्वपूर्ण रहा था। जहां भारत की किताबों में इस बारे में बताया गया है महात्मा गांधी देश की आजादी और भारत के एकीकरण के पक्ष में थे, मगर मुस्लिम लीग की मांग के बाद पाकिस्तान का जन्म हुआ। वहीं पाकिस्तान की किताबों में महात्मा गांधी के बारे में इतना कुछ नहीं बताया गया है। वहां की किताबों में लिखा है कि मुस्लिम लीग मुसलमानों के आत्मसम्मान और उन्हें स्वतंत्रता दिलाए जाने के लिए लड़ी। महात्मा गांधी का उसमें कोई खास योगदान नहीं था।

सविनय अवज्ञा आंदोलन ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तरफ से चलाए गए जन आन्दोलन में से एक था। बता दें कि इस आंदोलन की शुरूआत महात्मा गांधी ने ही की थी। बता दें कि ये वहीं आंदोलन था जिसके कारण ब्रिटिश सरकार के बनाए गए कानूनों का बहिष्कार किया गया था। मगर पाकिस्तान की किताबों में सविनय अवज्ञा आंदोलन 1930-34 की कोई जानकारी नहीं दी गई है।