शादी के पहले मर्दों को ये शर्तें मानने पर विवश कर रही सऊदी अरब की महिलाएं..!

सऊदी अरब एक ऐसा देश हैं जहाँ पहले महिलाओं के ऊपर कई प्रकार की पाबंदियां हुआ करती थी। कई सारे ऐसे काम थे जिन्हें महिलाओं को करने की मनाही थी। हालाँकि अब धीरे धीरे यहां महिलाओं के अधिकारों को लेकर भी कानून बनना प्रारंभ हुए हैं। मसलन पिछले साल ही एक कानून बना था जिसमे सऊदी अरब की महिलाओं को ड्राइविंग करने की इजाजत दे दी गई थी। हालाँकि कानून के बन जाने के बाद भी कुछ लोगो की सोच नहीं बदलती हैं ऐसे में यहां की महिलाओं ने अपने अधिकार को पूर्ण रूप से पाने के लिए एक नया तरीका खोज निकाला हैं। ये महिलाए शादी के पहले अपने शोहर से कुछ ख़ास शर्तों वाला कॉन्ट्रैक्ट साइन करवा रही हैं, ताकि शादी के बाद अगर वे लोग इन शर्तों को पूरा करने से मुकरते हैं तो वे इसे आधार बना कर उनसे तलाक ले सकती हैं। AFP एजेंसी और मौलवियों से मिली जानकारी के अनुसार सऊदी महिलाओं में इन दिनों अपनी शादी के कॉन्ट्रैक्ट में कार रखने, ड्राइविंग करने, नौकरानी रखने, शादी के बाद पढ़ाई और नौकरी करने जैसी शर्ते बड़ी पॉपुलर हो रही हैं।

loading...
इसी कड़ी में हाल ही में सऊदी के एक सेल्समैन मजीद की शादी में उसकी मंगेतर ने शादी के पश्चात जॉब करने और कार चलाने की शर्त रखी थी। दिलचस्प बात ये थी कि मजीद ने इस कॉन्ट्रैक्ट पर ख़ुशी ख़ुशी हस्ताक्षर कर दिए थे। रियाद निवासी मौलवी अब्दुलमोहसेन अल-आजमी के अनुसार इन दिनों कई सऊदी औरतें शादी के बाद झगड़े और विवादों की स्थिति को टालने के लिए पहले ही अपने पति से कॉन्ट्रैक्ट में कई प्रकार की शर्तें रखवा कर साइन करवा रही हैं। इस कॉन्ट्रैक्ट के बाद उनका पति इन वादों को निभाने के लिए बाध्य हो जाता हैं।

मौलवी सिनानी बताते हैं कि एक बार उन्होंने एक महिला को अपने हस्बैंड से बात करते हुए सूना था कि अगर तुम मुझे ड्राइविंग करने की परमिशन नहीं देते हो तो आपका काम तमाम, फिर मुझे आपकी कोई जरूरत नहीं हैं। बता दे कि साउदी महिलाएं भी अब आधुनिकता की तरफ बढ़ना चाहती हैं और पुरुष प्रधान समाज की इन कुरीतियों को जड़ से उखाड़ फेकना चाहती हैं। यही वजह हैं कि वे इन दिनों शादी के पहले अपने कॉन्ट्रैक्ट में कई तरह की बोल्ड शर्तें रख रही हैं।

मसलन पूर्वी अल्हासा शहर में एक महिला ने शर्त रखी कि उसका पति स्मोकिंग करना छोड़ देगा। वहीं एक लड़की ने तो कहा कि उसकी स्वयं की कमाई के पैसो पर उसके पति का कोई हक़ नहीं होगा। इतना ही नहीं एक महिला ने होने वाले पति से कहा कि वो शादी के पहले साल गर्भवती नहीं होगी। फिर एक महिला ने तो अपने पति को दूसरी शादी ना करने की शर्त बताई। जबकि इस्लाम में तो एक से ज्यादा विवाह की इजाजत हैं। लेकिन महिला ऐसा नहीं चाहती थी। उसने तो अपना ये कॉन्ट्रैक्ट शोशल मीडिया पर भी शेयर किया था जिसे पढ़कर हर कोई हैरान रह गया था।

मौलवी कल्बानी ने बताया कि उन्होंने एक शादी का कॉन्ट्रैक्ट ऐसा भी देखा था जिसमे महिला ने शादी के पश्चात काम ना करने और माँ को अपने साथ ही रखने की बात कही थी। इस प्रकार की शर्तें यक़ीनन साउदी अरब में महिलाओं की दशा सुधार देगी और उन्हें अपने सपने और अधिकारों को पूरा करने का अधिकार मिलेगा।