जब माँ ने खींची मासूम की नए मोबाइल से तस्वीर, तो “फ़्लैश” से सामने आया आश्चर्य कर देने वाला सच..!

आज के समय में मोबाइल फोन हर किसी की पहली और मुख्य जरूरत बन चुका है। अब हर गरीब से लेकर अमीर तक के पास अपना खुद का स्मार्टफोन है। सोशल मीडिया और सेल्फी के इस दौर में लोग अपनी तसवीरें खींच कर दोस्तों के साथ शेयर करना पसंद करते हैं। हालाँकि यह काफी हद तक उनके एंटरटेनमेंट का एक जरिया भी बन चुका है मगर इसके नुकसान और परिणाम भी कईं बार उतने ही अधिक भयानक देखने को मिलते हैं। आज हम आपको जो वाकया बताने जा रहे हैं, उसे जान कर शायद आप भी सोच में पड़ जाएंगे। दरअसल, यह पूरी घटना न्यूयॉर्क के टेक्सास का है। जहाँ एक मोबाइल फोन ने महिला की जिंदगी को नया मोड़ दे दिया है।

loading...
मिली जानकारी के अनुसार महिला ने हाल ही में नया स्मार्टफोन खरीदा था। जिससे वह अपने बेटे की तस्वीर खींचने की कोशिश कर रही थी। लेकिन जैसे ही उसके फोन  के कैमरा ने उसके बच्चे को कैप्चर किया तो कैमरा की फ़्लैश से हैरान कर देने वाला सच बाहर आया। महिला ने देखा कि उसके बेटे की एक आँख में फ़्लैश का असर कुछ अधिक ही नजर आ रहा था। माँ टीना ने उस तस्वीर को जब अपनी बहन के साथ शेयर किया तो उसे भी बच्चे की आँख में कुछ अजीब दिखाई दिया। वह बहुत डर चुकी थी इसलिए अपने मन का भ्रम दूर करने के लिए वह बेटे को डॉ. के पास ले गई। वहां जब डॉक्टर ने बच्चे की आँख का चेकअप किया तो उन्हें कैंसर के लक्षण नजर आए।

बाद में टेस्ट्स करवाने पर उनका शक सच निकला। दरअसल, बच्चे की एक आँख जो कैमरा की फ़्लैश से जानवर की आँख लग रही थी, वह हकीक़त में उसकी आँख का कैंसर था। डॉक्टर्स के अनुसार आँख का यह कैंसर आम तौर पर छोटे बच्चों में पाया जाता है जिसके केस काफी रेयर देखने को मिलते हैं। टीना की समझदारी के चलते उसके बेटे का कैंसर जल्दी पकड़ में आ गया। डॉक्टर्स के अनुसार अभी उसके बेटे की आँख का कैंसर शुरुआती सीमा पर था इसलिए उसे अच्छे इलाज और दवाइयों से रोका जा सकता था। हालाँकि इस ट्रीटमेंट से काफी बच्चों की एक आँख खराब भी हुई है मगर इसके बाद भी ट्रीटमेंट कनेर से पीड़ित बच्चों की पहली और अहम जरूरत है।

अमेरिकन शोधकर्ताओं के अनुसार आँख के कैंसर पर एक रिसर्च की गई। जिसमे पाया गया कि रेटिनोब्लास्टोमा नामक यह कैंसर आसानी से डिटेक्ट किया जा सकता है। ख़ास कर मोबाइल के कैमरा या फ़्लैश लाइट से इसे देखा जा सकता है। ऐसे में अगर किसी की आँख बुरी तरह से या साधारण से अजीब चमकती प्रतीत हो तो उसे नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए क्योंकि हो सकता है वह आँख के कैंसर की शुरुआत हो। ऐसे में अपने डॉ. से एक बार जांच जरूर करवा लें। क्योंकि किसी भी बीमारी को यदि समय रहते पकड़ लिया जाए, तभी उसका इलाज संभव है अन्यथा मरीज़ को भारी हर्जाना चुकाना पड़ सकता है।