भगवान श्री राम ने दिया था किन्नरों को ये आर्शीवाद, जिसके बाद से पूरी होती है उनकी कही सभी बात..!

किन्नर एक ऐसा शब्द जिसे सुनने के बाद हर किसी में महज एक ही प्रश्न आता है कि आखिर भगवान ने इन्हें ऐसा क्यों बनाया है। किन्नरों के बारे में अधिक जानकारी किसी को नहीं होती है, किंन्तु उनसे जुड़ी हर छोटी-बड़ी बात जानने के लिए प्रत्येक कोई उत्सुक रहता है। घर में कोई शुभ कार्य हो, शादी-ब्याह हो या कोई भी शुभ कार्य किन्नर उस स्थान पर पहुंचे ही जाते हैं और नेग मांगते  हैं। बता दें कि किन्नरों को हर कोई खुश करके ही वापस भेजना चाहता है और उनसे अच्छे आर्शीवाद की कामना करता है। ऐसा माना जाता है कि उनके मुंह से निकली हुई बात सदैव सच सिद्ध होती है। इसलिए इनको कोई भी नाराज करके नहीं भेजना चाहता है। अब आपके भी मन मे प्रश्न आया होगा कि आखिर इनको ऐसी शक्ति कहा से मिला है और किसने दी ? ऐसे कई प्रश्न हैं जो अक्सर हमारे मन में उठते हैं। इन सभी प्रश्नों के जवाब जानने से पहले आइए जानते हैं कि क्या त्रेतायुग में भी भगवान राम के समय में इस पृथ्वी पर उपस्थित थे किन्नर ?

भगवान राम से मिला था आशीर्वाद


loading...
ऐसी मान्यता है कि जब श्रीराम को 14 वर्षों का वनवास दिया गया था और वो अयोध्या को छोड़कर जा रहे थे तब उनके पीछे-पीछे उनकी प्रजा और किन्नर समुदाय के लोग भी आने लगे ते। तब श्रीराम ने सभी से प्रार्थना की थी सभी वापस लौट जाएं। किन्तु जब 14 साल बाद भगवान राम वापस लौंटे तो उन्होंने देखा कि प्रत्येक कोई तो वापस चला गया था, किन्तु 14 वर्षो तक किन्नर वहीं पर खड़े होकर उनका इंतजार करते रहे। तब उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर श्रीराम ने उनरो आर्शीवाद दिया था कि उनका आर्शीवाद सदैव फलित होगा।

न लें कभी बद्दुआ


बता दें कि ऐसा कहा जाता है कि किन्नरों को कभी नाराज करके नहीं भेजना चाहिए। ना ही उनसे कभी बद्दुआ लेनी चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक़ यदि कोई भी व्यक्ति किन्नरों का अपमान करता है या फिर उनका मजाक उड़ाता है तो वो अगले जन्म में किन्नर बनकर ही पैदा होता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि आपके घर या दुकान में किन्नर आए तों उन्हें सदैव दान दें और उनसे कहें कि फिर आइएगा।

इन चीजों का करें दान


बता दें कि इसी के साथ किन्नरों को दान करने से आप कई तरह की समस्याओं से भी छुट्कारा पा सकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यदि आपका शादी शुदा रिश्ता ठीक नहीं चल रहा हो तो उसके लिए आप बुधवार के दिन किन्नरों को सुहाग का समान दान कर सकते हैं। इसके साथ ही उनको हरें रंग के वस्त्र और मेंहदी का दान करना भी शुभ माना जाता है।

इस उपाय से बढ़ता है धन


वहीं किन्नरों को बुधवार के दिन दान देना विशेष लाभकारी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि आपके घर में धन की कमी है और लक्ष्मी माता रूठी हुई हैं तो आपको बुधवार के दिन किन्नर के हाथ में सुपारी के ऊपर एक सिक्का रखकर दान दें। ऐसा करने से घर में आने वाली धन से संबंधित समस्याओं का निवारण हो जाएगा।