घर का टिफिन पति प्रतिदिन दे देता था भिखारी को, सच्चाई पता चली तो पत्नी ने भिखारी से कर ली शादी..!

प्यार तो कई प्रकार के होते है जैसे माँ-बाप का प्यार, बहन-भाई का प्यार या पति-पत्नी का प्यार हम सभी के जीवन में मिलता ही है जो हमारे लिए बहुत ही अनमोल है, लेकिन हर घर में छोटी छोटी लड़ाईयां हो ही जाती है। हर घर में ऐसा लड़को के साथ अक्‍सर देखने को मिल ही जाता है जब कभी मां उन्हें रोज रोज एक ही तरह की सब्जी खिलाने लगती है। जब वो एक ही सब्जी को खा खा कर पक जाते है या बोर हो जाते है तब आखिरी में अपनी माँ से एक न एक दिन बोल ही देते है कि क्‍या माँ रोज रोज यही एक ही प्रकार की सब्जी या रोज रोज लौकी ही, जो कि ऐसा सभी के घरो में अक्सर होता ही रहता है।

loading...
फिर उसी वक्त माँ तुरंत शादी का ताना देने लगती है और कहती है कि खाना पसंद नहीं तो जा खाना बनाने वाली ले आ और जो मेरी सेवा करें मुझसे नही होगा अब ये सब यानि घर में बहु लाने को कहती है। मगर शादी के बाद लड़कों का क्‍या हाल होता है वो लड़के ही अच्‍छे से समझ सकते हैं क्‍योंकि शादी के बाद लड़कों के सारे नखरे समाप्त हो ही जाते हैं और लड़कों के कंधो पर घर की जिम्‍मेदारियां आ जाती है साथ ही बाप बनने के बाद उनकी जिम्‍मेदारियां और भी ज्यादा ही बढ़ जाती है मगर आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं वो भी कुछ इसी तरह का मामला है जो कि लौकी के सब्‍जी से ही संबंधित है जो कि आपको चौका के रख देगा। असल में ये मामला यूपी का है, जहां श्रावस्ती नाम की एक महिला रहती है और उसका पति आशीष रहता है।

मामला कुछ इस तरह है कि श्रावस्ती का पति यानि कि आशीष हर रोज सुबह-सुबह टिफिन लेकर मजदूरी पर निकल जाता था। जबकि गौर करने वाली खास बात ये थी कि आशीष की पत्‍नी उसे प्रतिदिन टिफिन में एक ही तरह की बनी हुई लौकी की सब्‍जी देती थी लेकिन फिर भी आशीष कुछ कहता नहीं था जिससे उसे अपने पति पर शक हुआ। असल में श्रावस्ती अपने पति को रोज करीब 20 दिन से लौकी की सब्‍जी ही दे रही थी लेकिन श्रावस्ती का पति आशीष उसे रास्‍ते में ही ऑफिस जाते वक्त सब्जी वाला डिब्बा रोज एक भिखारी को दे देता था। एक दिन आशीष की पत्‍नी श्रावस्ती ने शक होने के कारण आशीष का पीछा किया और सच का पता चल गया जिससे उसकी बीवी ने उसे उसी समय रंगे हाथो पकड़ लिया।


इससे पहले की आशिष कुछ सफाई देता तब तक भिखारी ने उपर आसमान की ओर देखते हुए रोमांटिक होकर दो चार शायरी कह डाली उसके बाद क्‍या? आशीष की पत्‍नी श्रावस्ती को ऐसा लगा कि जैसे मानो उसे उसके बचपन का प्यार मिल गया हो जिसे उसने कभी खो दिया था। उसी वक्त श्रावस्‍ती ने आशीष को तलाक देकर भिखारी से मंदिर में जाकर शादी कर ली और अब उसी मंदिर के सामने बैठकर दोनों भीख मांगते हैं। हम अक्सर सुनते आ रहे हैं कि प्‍यार करने की कोई हद नही होती ना उम्र देखता है ना ही जाती प्यार अँधा होता है मगर ऐसे भी होता है इस दुनिया में जो एकदम से किसी की पूरी लाइफ चेंज कर दे। कुछ भी कहाँ नही जा सकता यहाँ सब कुछ पॉसिबल है।