महिला को गंदे विडियो भेजने वाले मजनू को पाकिस्तानी बॉर्डर से घसीट लाई ये महिला सिंघम, जाने कैसे ?

आप लोगो ने आज तक कई जाबाज पुरुष अफसरों के किस्से सुने होंगे, किन्तु आज हम आपको मुंबई की एक ऐसी बहादुर महिला पुलिस के बारे में बताने जा रहे हैं जो इन दिनों बहुत अधिक चर्चा का विषय बनी हुई हैं। दरअसल हम यहाँ मुंबई में असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर के पद पर कार्य कर रही चारू मलिक की बात कर रहे हैं। इस बहादुर पुलिस वाली ने महिला को अश्लील मैसेज भेजने वाले एक मनचले युवक को पकड़ा हैं। किन्तु दिलचस्प बात ये हैं कि इस युवक को वो पाकिस्तानी सीमा से घसीट कर लाइ हैं। इतना ही नहीं युवक को पकड़ने के लिए चारु ने अपनी जान का भी रिस्क लिया और लगभग 11 घंटे जाल बिछाने के बाद आरोपी युवक को पकड़। महिला की इस बहादुरी के लिए लोग उन्हें लेडी सिंघम के नाम से भी पुकार रहे हैं। तो चलिए इस महिला पुलिस इंस्पेक्टर के केस को थोड़ा और विस्तार से जानते हैं।

महिला को गंदे मेसेज भेज परेशान कर रहा था युवक


loading...
मुंबई के वडाला में एक 34 वर्षीय महिला सुमन (परिवर्तित नाम) रहती हैं। सुमन को एक दिन व्हाट्सअप पर किसी अंजान नंबर से Hi का मेसेज आया। नंबर नया होने की वजह से सुमन ने उस पर ध्यान नहीं दिया। इसके बाद उस युवक ने महिला को एक आपत्तिजनक गंदा विडियो भेज दिया। महिला ने ये बात अपने पति को बताई। जब सुमन के पति ने उस नंबर पर कॉल किया तो मेसेज भेजने वाला युवक गाली गलोच करने लगा। उसने तो ये तक कहा कि ‘मेरा मन किया था तो भेज दिया। तुझे जो करना हैं कर ले ’ इसके बाद सुमन और उसका पति पुलिस स्टेशन गए और उस युवक के विरुद्ध शिकायत दर्ज करवा दी।

कश्मीर में निकला आरोपी का ठिकाना


शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने युवक को ढूँढना शुरू कर दी। युवक भी चालाक था उसने पुलिस से बचने के लिए अपना मोबाइल और सिम दोनों ही बदल दिया था। हालाँकि पुलिस उससे भी अधिक शातिर थी। उन्होंने सर्विलांस की मदद से किसी तरह युवक को ट्रेस कर लिया।

उसकी लोकेशन कश्मीर बताई गई। बस फिर क्या था लोकेशन का पता चलते ही अस्टिटेंट पुलिस इंस्पेक्टर चारू भारती ने दो और लोगो के साथ मिल एक तीन सदस्या टीम बनाई और कश्मीर गए। इस टीम में चारू के साथ सिपाही अजीत कदम और संदीप नाइक भी शामिल थे। यहाँ पहुँच उन्हें जानकारी प्राप्त की आरोपी युवक पकिस्तान से लगे हुए एक गाँव में रहता हैं। ये इलाका बहुत संवेदनशील होने के कारण से वहां कि लोकल पुलिस ने चारू की सहायता करने से मना कर दिया। ऐसे में चारू ने वहां के सीनियर अफसरों की मदद ली और युवक को पकड़ने की योजना बनाया।

ऐसे पकड़ा गया युवक


जांच से ये पता लगा कि आरोपी का नाम मोहम्मद राशिद खान हैं जो कि एक ट्रेंपो ड्राइवर का काम करता हैं। अब चुकी पाकिस्तान से सटे उसके गाँव में ही उसे पकड़ना बहुत खतरनाक हो सकता था इसलिए पुलिस ने दूसरी उपाय अपनाई। उन्होंने उसके पीछे अपना एक मुखबिर छोड़ दिया जिसने जानकारी दी की आरोपी गाँव से 150 किलोमीटर दूर मौजूद हैं एवं अगली सुबह वापस आएगा। इसके बाद चारू ने अपनी टीम के साथ गाँव के रास्ते में ही एक जाल बिछाया। फिर जैसे ही युवक वहां से गुजरा उन्होंने उसे पकड़ लिया। वे उसे राजौरी थाने लाए जहाँ आरोपी के परिजनों ने आकर हंगामा भी किया। हालाँकि चारू अपनी सूझबुझ दिखाते हुए आरोपी को हवाई अड्डे ले आई जहाँ से उसे सीधा मुंबई लाया गया।