100 करोड़ की मालकिन निकली गांव में दूध बेचने वाली स्त्री, इस प्रकार हुआ खुलासा..!

मनुष्य की किस्मत किस तरह पलट जाए इसके बारे में कोई नहीं जानता है और हर व्यक्ति मेहनत ही इसलिए करता है कि कभी उसे उस मेहनत का फल भी मिलेगा। लेकिन गांव के कुछ भोले-भाले लोगों को ज्यादा नहीं पता होता बस वे हर तरह की मेहनत के लिए तैयार रहती हैं फिर फल तो ऊपरवाला दे ही देता है। कुछ ऐसा ही हुआ एक महिला के साथ जब उसे अपनी जायदात के बारे में पता चला। तहकीकात करने पर 100 करोड़ की मालकिन निकली गांव में दूध बेचने वाली महिला, फिर इस प्रकार खुलासा हुआ।

100 करोड़ की मालकिन निकली गांव में दूध बेचने वाली महिला

loading...
राजस्थान के जयपुर से कुछ दूर एक छोटा सा गांव सीकर है, जहां सौ करोड़ की जमीन की मालिक संजू देवी मीणा खेती तथा पशुपालन कर अपने बच्चों को पालती है। उसे नहीं पता उसके नाम पर कीमती जमीन कहां पर है और वह तो बस इतना जानती है कि पति की मृत्यु के बाद उसे हर महीने कोई पांच हजार रुपए घर का खर्च चलाने के लिए भेज देता था। यह पैसा भी पिछले तीन सालों से बंद कर दिया गया था। मुंबई के हीरानंदानी ग्रुप की ‘हेजलनट कंस्ट्रक्शन’ कंपनी की करोड़ों की बेनामी संपत्ति का खेल सामने आने के पश्चात नीमकाथाना की पहाडिय़ों के बीच दीपावास गांव की ढाणी में रहने वाली इस महिला के घर जब मीडिया पहुंची तो बेनामी संपत्ति खरीदने के इस खेल का खुलासा हुआ। संजूदेवी के नाम से जयपुर-दिल्ली हाइवे पर छह गांवों में खरीदी गई 64 बेनामी संपत्तियों को आयकर विभाग की बेनामी निषेध यूनिट ने बेनामी संपत्ति अधिनियम, वर्ष 1988 के प्रावधानों के अंतर्गत प्रोविजनल रूप से अटैच किया गया है। इन जमीनों का बाजार मूल्य करीब 100 करोड़ रुपए बताया गया है।

बेनामी निषेध यूनिट की जांच में ये बात सामने आई है कि संजू देवी के नाम जयपुर-दिल्ली हाइवे पर आमेर तहसील के कूकस, खोरामीणा, हरवर, ढन्ड, नांगल तुर्कान तथा राजपुर खान्या गांवों में जमीनें हैं। संजू देवी के नाम साल 2006 में खरीदी गई थी और जांच में ये भी पता चला कि कुल 36 हेक्टेयर जमीन 64 अलग अलग विक्रय पत्रों के माध्यम से संजु देवी मीणा के नाम से खरीदी गई, मगर इनके लिए कुल 12.93 करोड़ रुपए का भुगतान मुंबई की एक बड़ी कंपनी हेजलनट कंस्ट्रक्शन ने करवाया था। इस कंपनी ने संजू देवी मीणा के नाम से ये जमीनें अपने फायदे के लिए ली थी और इसमें संजू देवी मीणा का सिर्फ नाम का प्रयोग ही किया गया था। संजू देवी मीणा के नाम से जमीनों के विक्रय पत्र पंजीकृत करवाने से पहले मुंबई निवासी एक व्यक्ति चंद्रकांत तारानाथ मालवंकर के नाम एक पावर ऑफ एटर्नी संजू देवी मीणा से ली गई थी।

इस तरह हुआ था खुलासा

जांच में ये पता चला कि कंपनी मुंबई के हीरानंदानी ग्रुप से संबंधित है। संजू देवी से जब इस विषय में बात हुई तो उनका कहना था कि उनसे अंगूठे लगवाए गए थे। संजू देवी को जब सौ करोड़ की जमीन की मालिक होने के बारे में बताया गया तो उसका कहना था कि वह तो भैंस का दूध बेचकर और खेती से अपने बच्चों का पालन कर रही थीं, इतनी कीमती जमीन उसके नाम है तो उसे भी कुछ पैसा मिलना चाहिए, जिससे बच्चों का पालन अच्छे से हो सके। बता दें कि संजू देवी के दो बेटियां और एक बेटा है। संजू देवी को तीन महीने पहले आयकर विभाग की टीम ने नीमकाथाना बुलाया था तथा उससे जमीन के खरीद के संबंध में पूछताछ की गई। संजू देवी को जो भी पता था उसने सबकुछ बता दिया।

बेनामी संपत्तियों के इन प्रोविजनल अटैचमेंट्स के साथ ही आयकर विभाग राजस्थान की बेनामी निषेध यूनिट अब तक कुल 458 बेनामी संपत्तियां अटैच हो चुकी है, जिनका कुल बाजार मूल्य लगभग 1400 करोड़ रुपए बताया गया है। संजू देवी के पति नारूराम और फुफेर ससुर मुंबई में काम करते थे और जब वो अपने घर आए तो दो लोग उन्हें लेने आए थे। उन्होंने जमीन के कागजों पर उससे अंगुठे लगवाए। ये बात वर्ष 2006 की है और उसके कुछ समय बाद पति का देहांत हो गया। इसके बाद उसे घर चलाने के लिए प्रतिमाह पांच हजार रुपए भेजे जाने लगे जो सीधे बैंक खातों में आते थे मगर तीन साल से वो भी आना बंद हो गया है। अब इनकम टैक्स की टीम संजू देवी को उनका हक दिलवाने के लिए कार्यवाही करेगी।