कश्मीर में हुई धोनी की पोस्टिंग, 15 दिनों तक ‘विक्टर फोर्स’ के संग होगी ट्रेनिंग..!

भारत के बेहतरीन विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी इन दिनों कई चीज़ों के कारण सुर्खियां बटोर रहे हैं, जिसमें संन्यास से लेकर आर्मी कैंप में समय बिताने तक की खबरें शामिल है। जी हां, महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर जहां एक ओर अटकलें तेज़ हैं, तो वहीं दूसरी तरफ वे जल्द ही सेना के साथ समय बिताने के लिए 106 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) का हिस्सा रहेंगे। इतना ही नहीं, महेंद्र सिंह धोनी ने यह निर्णय वेस्टइंडीज के लिए टीम के चयन से पहले ही बता दिया था, जिसके बाद अब वे सेना के साथ रहने की तैयारी में जुटे हुए हैं। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए  क्या खास है?
loading...
भारतीय क्रिकेट महेंद्र सिंह धोनी ने अपने संन्यास की खबरों को विराम लगाते हुए सेना के साथ रहने की घोषणा की तो मानों उनके फैंस खुशी से झूम उठे। दरअसल, बीसीसीआई ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी सेना के साथ पहले से ही समय बिताना चाहते थे, मगर एक के बाद एक टूर्नामेंट की वजह से उन्हें समय नहीं मिल पाया और ऐसे में अब उन्होंने खुद के लिए वक्त मांगा है, जिसे वे सेना के साथ बिताना चाहते हैं। बता दें कि धोनी के इस फैसले की जमकर प्रशंशा की जा रही है।

15 दिन तक विक्टर फोर्स के साथ करेंगे ट्रेनिंग
खबरों की माने तो महेंद्र सिंह धोनी 31 जुलाई से लेकर 15 अगस्त तक 106 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन (पैरा) के साथ समय बिताएंगे। इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी विक्टर फोर्स के साथ ट्रेनिंग करेंगे, जोकि एक खतरनाक ट्रेनिंग मानी जाती है। बता दें कि यह यूनिट कश्मीर में तैनात है, जोकि विक्टर फोर्स का भाग है। खबरों की माने तो धोनी इस दौरान गश्त, गार्ड और पोस्ट ड्यूटी करेंगे, जिसकी जानकारी उन्होंने बीसीसीआई को बहुत पहले ही दे दी थी।

2011 में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक सौंपी गई थी
साल 2011 में पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक सौंपी गई थी, जिसके पश्चात उन्होंने सिर्फ एक बार ही प्रशिक्षण लिया था। ऐसे में अब जब धोनी के पास पर्याप्त वक्त मौजूद है, तो वे एक बार फिर ट्रेनिंग लेना चाहते हैं, ताकि वे देश की सेना के साथ कुछ समय बिता सके। बता दें कि कश्मीर घाटी में उनकी यूनिट दक्षिण कश्मीर के अवंतीपोरा में विक्टर फोर्स का हिस्सा है, जोकि पिछले वर्ष आतंकी गतिविधियों का हिस्सा भी रहा है, जिसकी वजह से धोनी की ट्रेनिंग बहुत खतरनाक होने वाली है।
महेंद्र सिंह धोनी के करीबी सूत्र ने बताया कि जिस प्रकार से धोनी क्रिकेट के महानतम सेवकों में से एक है, ठीक उसी तरह से सेना के लिए उनका प्यार भी जगजाहिर है। ऐसे में धोनी ने सेना के साथ बिताने के बारे में बहुत पहले से ही सोच रखा था, लेकिन बीते सालों से ही उन्हें क्रिकेट की वजह से समय नहीं मिल पाया, मगर अब जब थोड़ा समय मिला है, तो वे सेना के साथ रहकर अपना सपना पूरा करना चाहते हैं।