55 घंटे और 3 ऑपरेशन के पश्चात अलग की गईं दिमाग से आपस में जुड़ी दो वर्ष की जुड़वा बहनें..!

पाकिस्तान की दो वर्ष की जुड़वा बच्चियों को अलग करने में लंदन स्थित एक अस्पताल के डॉक्टरों ने सफलता प्राप्त की है। लंदन के ग्रेट ऑरमंड स्ट्रीट अस्पताल के डॉक्टरों ने जन्म से दिमाग से जुड़ी इन बच्चियों को लगभग 55 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद अलग करने में सफलता हासिल की। दो साल की जुड़वा बच्चियों के नाम सफा और मारवा उल्लाह है, जो कि बहुत अविश्वसनीय तरीके से आपस में जुड़ी हुई पैदा हुई थीं। फिलहाल ऑपरेशन के बाद दोनों स्वस्थ हैं।

जन्म से ही दिमाग से जुड़ी हुई थीं दोनों बहनें
loading...
दो साल की दोनों बच्चियों के लंबे वक्त तक चले ऑपरेशन की सफलता के बाद ग्रेट ऑरमंड स्ट्रीट अस्पताल ने प्रेस रिलीज के द्वारा इस बात की जानकारी दी। जानकारी के मुताबिक, प्रत्येक 2.5 मिलियन नए पैदा हुए बच्चों में से केवल थोड़ा ही मामला जुड़वां बच्चों का होता है, और इनमें केवल 5 फीसदी जुड़वा बच्चे ही सिर से आपस में जुड़े होते हैं। जानकारी के मुताबिक, जुड़वा बच्चियों को करीब 19 महीने की उम्र में लंदन लाया गया था। वहां, सर्जिकल और मेडिकल टीम, जिन्होंने पहले भी जुड़वा बच्चों को 2006 और 2011 में सिर से अलग किया था, टीम ने इस केस में सफलता के लिए एक विस्तृत योजना बनाई कि फिर खास प्लानिंग के साथ बच्चियों को अलग करने में सफलता प्राप्त की।

3डी प्रिंटिंग के जरिए केस को समझा, फिर आगे की प्रक्रिया शुरू की
पूरे मामले में अस्पताल की तरफ से बताया गया कि दोनों बच्चियों के दिमाग और रक्त वाहिकाएं आपस में जुड़ी हुई थीं और डॉक्टरों ने ऑपरेशन से पहले इन बच्चियों की स्थिति का पता करने के लिए आभासी परिकल्पना का उपयोग किया। इसमें लड़कियों की शारीरिक रचना की एक सटीक प्रतिकृति बनाई गई थी। 3डी प्रिंटिंग के जरिए इसकी पेचीदगियां समझने के पश्चात डॉक्टरों ने आगे प्रक्रिया शुरू की। न्यूरोसर्जन नूर उल ओवेस जिलानी और क्रैनियोफेशियल सर्जन डेविड डुनावे के नेतृत्व में, 100 की डॉक्टरों की टीम ने लगभग चार महीने की अवधि में तीन बड़े ऑपरेशन और कई छोटी प्रक्रियाओं के जरिए इसे पूरा किया।

ऑपरेशन के बाद स्वस्थ हैं दोनों बच्चियां
अंतिम ऑपरेशन 11 फरवरी को हुआ जिसके पश्चात दोनों बच्चियों को सफलतापूर्वक अलग करने में डॉक्टरों को कामयाबी मिली। इसके बाद उन्हें 1 जुलाई को उनकी मां को सौंप दिया गया। जुड़वां बच्चियों के इलाज के लिए एक उदार दाता की तरफ से खर्च का भुगतान किया गया। पाकिस्तान के चरसद्दा की जुड़वा बच्चियों का जन्म सिजेरियन डिलीवरी से हुआ था। पहला ऑपरेशन अक्टूबर 2018 में किया गया था। उस वक्त उसकी उम्र महज 19 महीने की थी। पूरी तरह से अलग करने के लिए अंतिम ऑपरेशन 11 फरवरी 2019 को किया गया था।