जयपुर में 65 व्यक्तियों को 'हवस' का शिकार बनाने वाला 'जीवाणु' अपने दोस्त 'कीटाणु' से लगाता था यह शर्त..!

राजस्थान की राजधानी जयपुर के शास्त्रीनगर में सात वर्ष की बच्ची के साथ हैवानियत के मामले में पकड़ा गया सिंकदर उर्फ जीवाणु के बाद पुलिस को उसके दोस्त कीटाणु की तलाश है। जीवाणु और कीटाणु ने मिलकर जयपुर में कई वारदातों को अंजाम दिया है। जयपुर पुलिस की गिरफ्त में आए जीवाणु ने पूछताछ में सिल​सिलेवार जो कहानी बयां की वो रोंगटे खड़े कर देने वाली है। जीवाणु कितना बड़ा दरिंदा था इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसने न सिर्फ शास्त्रीनगर की 7 साल की मासूम ही नहीं बल्कि जयपुर के 65 लोगों को अपनी हवस का शिकार बनाया था। इनमें 25 बच्चे और लगभग 40 पुरुष व किन्नर शामिल हैं।

जब एक रात में तोड़ डाले 13 ताले
loading...
जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी जीवाणु ने पूछताछ में बताया कि जीवाणु के मित्र कीटाणु का भी नाम सामने आया है। दोनों शहर में कई आपराधिक वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। अक्सर इनमें शर्त लगा करती थी कि एक रात में सबसे ज्यादा ताले कौन तोड़ता है। एक बार जीवाणु ने एक ही रात में 13 जगहों के ताले तोड़कर शर्त जीती थी।

शास्त्रीनगर जयपुर रेप केस
-1 जुलाई 2019 को जयपुर के शास्त्रीनगर की 7 वर्ष की बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना सामने आई थी।

-2 जुलाई से शास्त्रीनगर में माहौल तनावपूर्ण हो गया। मामले की खुलासे की मांग को लेकर लोग सड़कों पर उतर आए थे।

-शास्त्रीनगर में भारी संख्या पुलिस जाप्ता तैनात करना पड़ा था।

-कोई अफवाह ना फैले इसके लिए 2 से 6 जुलाई तक जयपुर के 13 पुलिस थाना इलाकों में इंटरनेट बंद करना पड़ा।

-5 जुलाई की शाम को जयपुर पुलिस ने जीवाणु को पकड़ लिया तथा छह जुलाई को मामले का खुलासा किया।

22 जून को भी की वारदात
जीवाणु पकड़ा भले ही शास्त्रीनगर की वारदात के बाद गया हो, लेकिन उसने पहले भी कई वारदातों को अंजाम दिया। 22 जून को शास्त्रीनगर इलाके में ही 4 साल की बच्ची से दुष्कर्म भी इसी ने किया था। वह जयपुर में किराये के मकान में रहता है और वारदाताें के पश्चात काेटा में छिपा था। पुलिस पूछताछ में जीवाणु ने नाई की थड़ी, भट्टा बस्ती, शास्त्री नगर में दुष्कर्म की कई अन्य वारदातें भी कबूल की हैं।

जयपुर में वारदात के कोटा भाग गया था जीवाणु
जयपुर के शास्त्रीनगर में वारदात को अंजाम देने के पश्चात जीवाणु कोटा भाग गया था। एडिशनल डीसीपी धर्मेन्द्र सागर के अनुसार 4 व 5 जुलाई को जीवाण जयपुर से चाेरी की बाइक लेकर काेटा के लिए रवाना हुआ। काेटा जाते वक्त रास्ते में देवली के पास शराब ठेके पर रात काे शराब लेने रुका। इस दाैरान ठेके के मैनेजर साेहनलाल से विवाद हाे गया। इस पर जीवाणु ने उसे गाेली मार दी और गल्ले में रखे 20 हजार रुपए, कान की साेने की मुर्कियां लूट ली। इस संबंध में देवली थाने में मामला दर्ज है।