6 नौजवानों ने मुझे कार से खींचकर निकाला, मिस इंडिया यूनिवर्स रह चुकीं उशोषी ने बताया..!

पश्चिम बंगाल बीते कुछ महीनों से राजनीतिक कार्यकर्ताओं की हत्याओं के लिए सुर्खियों में रहा। मगर 18 और 19 जून के बीच रात एक और ऐसी घटना हुई, जो बंगाल में बिगड़ी कानून व्यवस्था को उजागर करती है। मिस इंडिया यूनिवर्स का खिताब जीत चुकीं उशोषी सेनगुप्ता को राजधानी कोलकाता में गुंडों ने घेर लिया। उन्हें खींचा और उनके ड्राइवर के साथ मारपीट की। उशोषी के मुताबिक गुंडों की संख्या 15 से अधिक थी। अंतरराष्ट्रीय स्तर के ब्यूटी कॉन्टेस्ट में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकीं उशोषी के इस भयावह घटना की तस्वीरें और वीडियो फेसबुक पर शेयर किया है। इस पूरी घटना का ब्योरा पुलिस प्रशासन के रवैये पर भी सवाल खड़े करता है।
loading...
मैं 18 जून (18-19 की बीच रात) को रात लगभग 11.40 पर JW Marriott में काम निपटाकर घर के लिए निकली। मैंने उबर कैब बुक की थी। मेरे साथ मेरा कलीग (सहकर्मी) था। जब कैब एक्साइड क्रॉसिंग तक पहुंची, तो कुछ बिना हेल्मेट पहने बाइक सवार आए और कैब में बाइक भिड़ा दी। इसके पश्चात लड़के बाइक से उतरे और ड्राइवर पर चिल्लाना शुरू कर दिया। कुछ ही सेकेंड में 15 लड़के इकट्ठे हो गए। इन्होंने ड्राइवर को गाड़ी से बाहर निकाला और पीटना शुरू कर दिया। मैं बाहर निकली और चिल्लाना और वीडियो बनाना शुरू किया। मैं पास के ही मैदान पुलिस स्टेशन गई, वहां एक पुलिसकर्मी को देखा और उन्हें साथ आने की गुजारिश की। पुलिसकर्मी का जवाब था कि ये मामला उनके नहीं भवानीपुर थाने के अधिकार क्षेत्र में आता है। यहां मैं स्वयं को संभाल नहीं पाई। मैंने उनसे (पुलिसकर्मी) दरख्वास्त की कि वो साथ चलें, नहीं तो गुंडे ड्राइवर को मार देंगे।
इसके बाद पुलिसकर्मी साथ आया और लड़कों को पकड़ा और हुड़दंग मचाने के बारे में पूछा लड़कों ने पुलिसकर्मी को धक्का दिया और फरार हो गए। सबकुछ खत्म हो जाने के पश्चात भवानीपुर थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक 12 से ज्यादा बज चुके थे। मामला यहीं खत्म नहीं हुआ। कोलकाता के हाई सिक्योरिटी एरिया में इन गुंडों की हिम्मत देखिए कि इतना होने के बाद भी उन्होंने कैब का पीछा किया। उशोषी ने लिखा, ये लड़के हमारी कैब का पीछा करते रहे। जब कलीग को छोड़ने के लिए लेक गार्डन (सरकारी घरों वाला इलाका) की तरफ पहुंचे तो 6 बाइक सवार फिर आ धमके। इन्होंने गाड़ी को रोका, पत्थर बरसाए और तोड़-फोड़ की। एक ने मुझे खींचा और फोन से वीडियो डिलीट करने के चक्कर में मेरा फोन तोड़ने की कोशिश की। मैंने चिल्लाना शुरू किया तो स्थानीय लोग निकलकर बाहर आए।
पुलिसवालों के कहने पर जब मैं इस मामले को दर्ज कराने के लिए चारू मार्केट पुलिस स्टेशन गई तो ड्यूटी पर तैनात सब-इंस्पेक्टर ने मामला दर्ज करने से मना कर दिया। क़रीब 1.30 बज चुके थे। काफी सवाल जवाब करने पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया। मगर जब मेरे उबर ड्राइवर ने मामला दर्ज कराना चाहा तो पुलिस ने कह दिया कि एक शिकायत पर दो FIR नहीं हो सकतीं, ये कानून के खिलाफ है।
साऊथ कोलकाता जैसे कड़ी निगरानी वाले इलाके में हुई ऐसी घटना से उशोषी आश्चर्य हैं। उनके मुताबिक ये पूरी घटना पैसा ठगने के लिए की गई थी। अपनी पोस्ट के आखिर में उशोषी लिखती हैं कि रात की घटना ने मुझे हिलाकर रख दिया है। ये वो कोलकाता नहीं है, जिसके लिए मैं बाहर अपना शानदार करियर छोड़कर आई हूं। पुलिस की तरफ से शुरुआती एक्शन थोड़ा ढीला रहा। उशोषी के पोस्ट के बाद ये खबर मीडिया में आई। इसके बाद पुलिस ने भी एक्शन लिया है।