7 वर्ष की बच्ची का रेपिस्ट पुलिस से बोला '7 दिन पहले 4 वर्ष की मासूम बच्ची का भी रेप किया'..!

जयपुर में एक सात साल की बच्ची का बलात्कार हुआ। इस घटना ने महज़ कुछ घंटों में साम्प्रदायिक रंग ले लिया। आरोपी और पीड़िता दोनों अलग धर्म के थे। पुलिस सरगर्मी से आरोपी की तलाश में लगी थी। उधर शहर के हालात बिगड़ रहे थे। जगह-जगह आगजनी तथा तोड़-फोड़ हो रही थी। मामला इतना बिगड़ा कि अफ़वाह न फैले, इसलिए इंटरनेट तक बंद करना पड़ा। पुलिस ने 6 जुलाई को राजस्थान के कोटा से आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया। गिरफ़्तारी के बाद जो जानकारियां सामने आईं उसके लिए ‘हैरान करना’, ‘हाड़ कंपाना’ और ‘झकझोर देना’ जैसी बातें भी बेमानी साबित होंगी।

# क्या पता चला
loading...
जब आरोपी सिकंदर की तलाश में पुलिस यहां-वहां भटक रही थी, तब वह सिकंदर के कमरे पर भी गई थी। वहां अधिक कुछ तो नहीं मिला, लेकिन एक कॉपी मिली। स्कूली कॉपी। उस कॉपी में सामने के पेज पर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा था ‘सिकंदर : उर्फ़ मौत का कहर’। एक महिला का स्केच भी बना था। और नाम भी लिखा था। इसी कॉपी के आख़िर में आरोपी ने अपना स्केच भी बना रखा था। असल में इसका एक नाम और भी है। जीवाणु। किसने रखा नहीं पता। मगर ये जीवाणु के नाम से जाना जाता रहा है।

ख़ुद को ‘सिकंदर उर्फ़ मौत का कहर’ बताने वाला ये शख्स वाक़ई में कहर ही है। जो इंसानियत पर टूटा है। सिकंदर केवल एक रेपिस्ट ही नहीं है, बल्कि सीरियल रेपिस्ट है। इसे कम उम्र की बच्चियों से बलात्कार की पुरानी आदत है। और इसे आदत है जेल जाने की। अब तक 12 मामले इस पर दर्ज हैं और कुल 6 बार ये जेल जा चुका है।

सिकंदर पहली बार जेल तब गया जब वो नाबालिग था। वर्ष 2001 में सिकंदर चोरी के एक मामले में जेल गया था। तब नाबालिग होने की वजह से जल्दी छूट गया। साल 2014 में इसने एक बच्चे का रेप करके उसका मर्डर कर दिया। इस मामले में इसे उम्रकैद की सज़ा हुई। ज़मानत पर फिर बाहर आ गया। ज़मानत पर बाहर आते ही इसने दो बच्चियों से फिर रेप की कोशिश की मगर लोगों ने पकड़ लिया। पुलिस आई तो पुलिसवालों पर सरिये से हमला किया और भाग निकला। 34 साल का यह सीरियल रेपिस्ट खानाबदोश है और जयपुर में नाई की थड़ी में किराए के मकान में रहता था।

अपनी काले रंग की स्प्लेंडर पर बच्ची को बैठाकार ले जाता दिख रहा है जीवाणु रेप करने के पश्चात जीवाणु ने बच्ची को घर के पास छोड़ दिया और फ़रार हो गया। गिरफ़्तारी के बाद जीवाणु ने ये भी बताया कि उसने जयपुर के शास्त्री नगर में केवल उसी सात साल की बच्ची का रेप नहीं किया बल्कि आठ दिन पहले इसी इलाके की एक चार साल की बच्ची का भी रेप किया था। उसे भी ठीक इसी तरह रेप के बाद घर के पास छोड़कर चला गया था। जीवाणु के कमरे की तलाशी में दो खिलौना बंदूकें भी मिली हैं। रेप पीड़िता बच्ची ने बताया कि इसी बंदूक से डराकर उस दिन जीवाणु ने उसका रेप किया था।

अपने आप को ये सीरियल रेपिस्ट भले ही कहर बता रहा हो मगर है ये जीवाणु ही। एक ऐसा जीवाणु जो ख़त्म होने का नाम नहीं लेता। कहीं से भी कभी भी सामने आ जाता है। हम रहने के लिए दूसरा ग्रह तलाश रहे हैं। पानी से चलने वाली गाड़ियां तैयार हो रही हैं। मगर हर दिन इन जीवाणुओं की ख़बरें आती ही रहती हैं। आप जहां जाएंगे ये जीवाणु साथ होंगे, चाहे नया ब्रह्माण्ड खोज लीजिए। तब तक उस भारत माता की जय बोलिए, जिसकी बेटियां हर घंटे कहीं ना कहीं दबोची खसोटी जा रही हैं। जब आप ये ख़बर पढ़ रहे थे तब भी कहीं ना कहीं …