सड़क पर चलते हुए पीएम की गाड़ी का टायर “पंचर” हो जाए तो क्या होगा? 99% लोग नही जानते इसका जवाब...!

समय के साथ साथ हमारे भारत देश ने भी बहुत उन्नति कर ली है और आज बड़े और विकसित देशों की लिस्ट में शामिल हो चुका है। इसका पूरा श्रेय सरकार और लोगों की आपसी साझेदारी को जाता है। अब हमारा देश भी दुनिया के अन्य देशों की तरह एक शक्तिशाली राष्ट्र बन कर उभर रहा है। देश के उन्नत होने के साथ साथ कानून और सुरक्षा नियम भी बहुत कठिन होते जा रहे हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि हमारे भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था भी कईं शक्तिशाली देश से बेहतर बन चुकी है।

loading...
बता दें कि इस वक्त हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र सिंह मोदी की सुरक्षा के लिए हर रोज़ कम से कम 20 सैनिक तैनात रहते हैं। उनकी सुरक्षा का पूरा जिम्मा स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप SPG को दिया गया है। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री की गाड़ी की सुरक्षा को लेकर भी ख़ास नीतियां अपनाई गई हैं। ऐसे में यदि उनकी गाड़ी राह में चलते चलते अचानक से पंचर या खराब हो जाती है तो वह कम से कम 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से उन्हें 320 किलोमीटर तक पहुंचा सकती है।

भारत की सुरक्षा सेना प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर बहुत संजीदा है। इसलिए जहाँ भी मोदी जी जाते हैं, उनके साथ सतह हर स्टेप पर एसपीजी के जांबाज़ शूटर तैनात रहते हैं। यह शूटर्स इतने काबिल है कि कुछ ही सेकंड्स इ टेररिस्ट को भी मार गिरा सकते हैं। जानकारी के अनुसार एसपीजी में अभी करीब 3 हज़ार से अधिक जवान तैनात हैं। इन सभी जवानों को प्रधानमंत्री के साथ साथ पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार को सिक्यूरिटी करने का काम सौंपा गया है। गौरतलब है कि एसपीजी के इन सभी जवानों को अमेरिका की सीक्रेट सर्विस की गाइडलाइंस के अनुसार तैयार किया जाता है।

खबर के अनुसार पीएम की सुरक्षा में खड़े सैनिकों के पास FNF-2000 असाल्ट राइफल, ऑटोमैटिक गन और 17M रिवॉल्वर्स के साथ साथ अन्य शक्तिशाली हथियार होते हैं। एसपीजी के अतिरिक्त दिल्ली पुलिस भी पीएम की सुरक्षा का ख़ास ख्याल रखती है और उनके कहीं भी जाने से पहले पूरे एरिया का निरिक्षण करवाती है। जब भी किसी तरह का कोई प्रोग्राम या इवेंट होता है, तो पूरा एरिया एसपीजी के जवान अपने अंडर में ले लेते हैं। अधिकतर प्रोग्राम में एसपीजी चीफ खुद सुरक्षा में तैनात होते हैं, अगर वे किसी कारण से नहीं पहुंच पाए तो फिर लीड करने की जिम्मेदारी किसी दूसरे हायर रैंक के ऑफिसर को दी जाती है। जिसके ऊपर इसकी पूरी जिम्मेदारी रहती है।

पीएम देश के जिस भी कोने में जाते हैं, वहां उनके पहुँचने से 10 मिनट पहले ही पूरा ट्रैफिक रोक दिया जाता है तथा सभी वाहनों का अच्छे से निरिक्षण किया जाता है। एसपीजी जवान ख़ास ख्याल रखते हैं कि वह जिस रूट से जा रहे हैं, वह अच्छे से क्लियर है भी या नहीं। इसके अलावा पीएम आवास को भी 500 से ज्यादा कमांडो हर समय घेरे रहते हैं और उनकी सुरक्षा करते हैं।