बोरवेल में गिरे अपने भाई को निकालने के लिए हाथों से घंटे तक खोदी मिट्टी, सही सलामत बच पाया अपने भाई की जान...!

आपको बता दे राजस्थान के बीकानेर में एक मैकेनिक बोरवेल में जा गिरा और कई घंटों तक बोरवेल में फंसा रहा। राहत की बात यह है कि इस मैकेनिक को मौके पर मौजूद लोगों ने बचा लिया। ये मैकेनिक अपने भाई और अन्य साथियों के साथ एक ट्यूबवेल के बोरवेल से मोटर निकाल रहा था। बता दे इसी दौरान अचानक मिट्टी धंस गई और ये मैकेनिक इस बोरवेल के अंदर फंस गया। हालांकि इस मैकेनिक के भाई की बदौलत इसकी जान बच पाई। रामफल नामक एक किसान खेत में एक ट्यूबवेल था जो करीब दो सालों से खराब था। रामपफल ने अपने ट्यूबवेल के बोरवेल में लगी मोटर को निकालने के लिए मैकेनिक लालचंद नायक को बुलाया। बता दे लालचंद नायक अपने भाई धर्माराम नायक, कालूराम और प्रेम नायक के साथ इस कार्य को करने के लिए मंगलवार के दिन रामफल के खेत में आए थे।
loading...
बोरवेल में लगी मोटर को निकालने के लिए लालचंद नायक बोरवेल के अंदर गए। वहीं बोरवेल के अंदर जाते ही बोरवेल की मिट्टी धंस गई और लालचंद नायक बोरवेल के अंदर फंस गया। दोस्तों लालचंद नायक को बोरवेल के अंदर फंसा देख भाई धर्माराम नायक ने बिना कोई देरी किए हाथों से मिट्टी निकालना शुरू कर दिया। बता दे मिट्टी धंसने के कारण लालचंद बोरवेल में फंस गया था लेकिन उसकी गर्दन मिट्टी के ऊपर ही थी। जिसके चलते उसके भाई ने बोरवेल के अंदर घुस कर मिट्टी को अपने हाथों से निकालना शुरु कर दिया। आपको बता दे धीरे धीरे ये बात पूरे गांव में फैल गई और गांव वाले भी लालचंद नायक की मदद करने के लिए मौके पर आ गए।
इस हादसे की जानकारी तुरंत पुलिस तक पहुंची। जिसके बाद पुलिस ने लालचंद नायक को बोरवेल से निकालने के लिए जेसीबी और हाइड्रो मशीन को मौके पर बुलाया। लेकिन मिट्टी गिली के चलते इन मशीनों का इस्तेमाल नहीं किया जा सका। बता दे इसलिए लोगों ने अपने हाथों से ही मिट्टी निकालनी शुरु कर दी। अपने भाई को बचाने के लिए धर्माराम नायक ने करीब ढाई घंटे तक हाथों से मिट्टी खोदी। धर्माराम नायक के कारण उसका भाई सही सलामत बच पाया।
आपको बता दे जिस बोरवेल में लालचंद नायक गिरा था वो 40 फीट गहरा था। ये हादसा 1:15 बजे हुआ था और लालचंद नायक को 3 बजे सुरक्षित बाहर निकाला गया था। बोरवेल से निकलाने के बाद लालचंद नायक को तुंरत अस्पताल ले जाया गया। बता दे लूणकरणसर सीएचसी अस्पताल में लालचंद नायक का उपचार किया गया। लालचंद नायक की हालात अब सही है। आपको बता दे जिस तरह से लालचंद नायक के भाई ने हिम्मत नहीं हारी और अपने भाई को बचाने के लिए अपने हाथों से मिट्टी खोदी उसकी तारीफ हर कोई कर रहा है।