अलीगढ़ में गोली लगने से एक महिला की मृत्यु, दस दिन पहले हुई थी शादी..!

हरदुआगंज के गांव नगला बंजारा में शुक्रवार को संदिग्ध परिस्थितियों में नवविवाहिता की गोली लगने से मृत्यु हो गई। जानकारी मिलने पर आसपास के लोगों में सनसनी मच गई। कलाई मीरपुर के माजरा नगला बंजारा में निवासी गिरवर सिंह बंजारे के पांच बच्चों में दो बड़ी बेटी पूजा व आरती की शादी 24 जून को हुई थी। वह 28 जून को मायके आई थीं। शुक्रवार को दोनों बहनों की विदाई की तैयारी चल रही थी। सुबह आठ बजे एकाएक चली गोली पूजा के सिर में लगी। परिजन व पति उसे लेकर मेडिकल पहुंचे जहां पूजा को मृत घोषित कर दिया।

खेत में खून के निशान
loading...
पूजा के पिता गिरवर व चाचा साहब सिंह का कहना है कि घर के सामने खेत में शौच को गई पूजा को चार नकाबपोश बदमाशों ने गोली मारी है। घटना की चश्मदीद छोटी बहन अंजली पूजा के साथ गई थी। पुलिस को बाजरे के खेत में घास के पत्तों पर खून लगा मिला। मगर जान बचाने को जिद्दोजहद अथवा गोली लगने से गिरने के साक्ष्य नहीं मिले। पुलिस हत्या के आरोप को नकारती दिखी।

क्या शादी से नाखुश थी पूजा? 
पूजा व आरती की शादी 24 जून को राजस्थान में धौलपुर क्षेत्र के गांव बाड़ी बसीड़ी निवासी सगे भाई रामू व रवि पुत्र साधू सिंह के साथ हुई थी। 28 जून वह पतियों के साथ आई थीं। उसी दिन से पति भी यहीं रुके हुए थे। थाना प्रभारी ने बताया कि पूछताछ में सामने आया कि पूजा इस विवाह से नाखुश थी वह पति के साथ जाना नहीं चाह रही थी। जबरन भेजने पर उसने घर के कमरे में तमंचे से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। कमरे के कोने में बिखरे खून को भी परिजनों ने साफ कर दिया। हालांकि आत्महत्या करने का दावा कर रही पुलिस प्रयुक्त तमंचा अथवा ठोस साक्ष्य नहीं तलाश सकी। वहीं पुलिस गिरवर की गांव के ही परिवार से चली आ रही रंजिश की जांच भी कर रही है। ये रंजिश गिरवर की पत्नी को भगा ले जाने के पश्चात शुरू हुई थी। एसओ संदीप कुमार का कहना है कि प्रथमदृष्टया मामला आत्महत्या का मामला लग रहा है। सभी पहलुओं पर जांच की जा रही है।