पति घर छोड़कर चला गया, लाख खोजने पर नहीं मिला, फिर पत्नी की जिंदगी में टिकटॉक आया..!

टिक टॉक के बारे में इंटरनेट पर बताना मतलब पानी में उतर के पानी को बताना, कि पानी, तू गीला है। सबको पता है, कि ये क्या बला है। 15 सेकंड के वीडियो, कुछ फनी तो कुछ ड्रामा वाले। सब चलते हैं इधर। बीच में मद्रास हाई कोर्ट ने बैन किया था। ये मिलेनियल टीनेजर्स का तुलसी मोमेंट था। जब क्योंकि सास भी कभी बहू में मिहिर के मरने की खबर आई थी। कहते हैं उस वर्ष घरों में मम्मियों-मामियों ने दिवाली नहीं मनाई थी। एकता कपूर खतों में डूब गई थीं।

loading...
फिर मिहिर वापस आया था। वैसे ही आया टिकटॉक। दिल खिल गए। मित्रां दी जो जान पर बन आई थी, वो उतर आई। अब टिकटॉक से बाहर भी कई ऐसे सोशल मीडिया पेज हैं जो टिकटॉक के वीडियो चला कर लोगों के एंटरटेन कर रहे हैं।

खैर बात है ये कि टिकटॉक के कारण एक बहुत ही सही खबर आई है। तमिलनाडु से द न्यूज मिनट ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि जयाप्रदा और सुरेश पति-पत्नी थे, और उनके दो बच्चे भी थे। विल्लूपुरम, तमिलनाडु में रहते थे। 2016 में सुरेश काम की तलाश में निकला। उसके बाद से घर ही नहीं लौटा। पत्नी जयाप्रदा ने बहुत ढूंढा। आस-पास पता लगाया। FIR हुई। सुरेश को गुमशुदा करार दिया गया। लेकिन इस मामले में बात आगे बढ़ी नहीं, कुछ ख़ास पता नहीं चला।

अभी हाल में ही जयाप्रदा के एक रिश्तेदार ने टिकटॉक पर एक वीडियो देखा। उसमें दिख रहा आदमी बिल्कुल सुरेश जैसा दिख रहा था। एक ट्रांस महिला के साथ। ये देखकर उसने जयाप्रदा को बताया। जया ने वीडियो देखा, तथा उसने कन्फर्म किया कि ये सुरेश ही है। वो फटाफट विल्लूपुरम पुलिस स्टेशन पहुंची और पुलिस को इत्तला की। पुलिस ने ट्रांस पर्सन एसोसिएशन की सहायता से सुरेश और उसके साथ मौजूद ट्रांस महिला को ट्रैक कर लिया। पता चला कि वो लोग होसुर में हैं। ट्रांस पर्सन एसोसिएशन एक एनजीओ है जो ट्रांस समुदाय के लोगों की मदद और उनके सपोर्ट के लिए काम करता है।

सुरेश का इतने सालों में कुछ अता-पता नहीं चल पाया था। तस्वीर: एशियानेट न्यूज बात की तो पता चला कि सुरेश की घर पे कुछ अनबन हो गई थी। उसकी वजह से वो घर छोड़कर निकल गया तथा होसुर में सेटल हो गया। ट्रैक्टर कंपनी में मैकेनिक हो गया। एक ट्रांस महिला के साथ रिलेशनशिप में भी था। पुलिस ने इनकी काउन्सलिंग की और घर भेज दिया है।