भरी पंचायत में युवक को पहले जूतों से पीटा फिर पिलाया पेशाब और खिलाये गोबर..!

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में 7 दिन पहले ही लाखों की चोरी की घटना ने एक बेगुनाह युवक तथा उसके परिवार को गांव से पलायन करने पर मजबूर कर दिया। दरअसल, एक तान्त्रिक के कहने पर एक युवक को चोर साबित करके उसको घर से उठा लिया गया। गांव के दबंगों ने उसको अपने घर के ही अंदर उल्टा लटकाकर उसको बहुत ज्यादा बेरहमी से पीटा। आरोप है कि उसको पेशाब भी पिलाया गया और भैंस का गोबर भी उसको खिलाया गया।  युवक के उपर भीगा हुआ  बोरा डालकर उसको यातनाएं भी दी गई। युवक के शरीर पर यातनाओं के निशान आरोपों की सच्चाई भी बयां कर रही है। अब युवक और उसके परिवार ने भय के कारण गांव से पलायन कर दिया है और पुलिस ने इस मे अभी तक युवक को यातनाएं देने वाले लोगो पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की है।
loading...
दरअसल, ये घटना थाना बंडा के मोहददीनपुर गांव है। यहां सात वर्ष पहले धर्मपाल, गौरव, पवन, राहुल और सोनू के घर मे चोरी भी हुई थी। इस सभी लोगो ने चोरों को ढूंढने के लिए तान्त्रिक का सहारा लिया। तान्त्रिक ने भी चोर का ऐसा हुलिया बताया जो गांव के राकेश के हुलिए से ही मेल खाता था। उसके पश्चात सभी लोगो ने गांव मे रहने वाले राकेश को घर उठा लिया और अपने घर लेकर गए। आरोप है कि वहां उसको उल्टा लटकाकर बेरहमी से पीटा गया।

चोरी की घटना को जबरन कबूलवाते रहे। जब उनका इतने से मन नहीं भरा तो सभी ने उसको पेशाब पिलाया और भैंस का गोबर भी खिलाया। आरोप है कि पूरा दिन उसको बंधक बनाकर रखा गया तथा तभी रात में पुलिस ने उसको वहां से आजाद भी करा दिया। पुलिस को पूरी घटना बताई गई। अपने शरीर पर यातनाओं के निशान दिखाए। उसके बाद भी पुलिस ने आरोपियों पर कोई कार्रवाई नहीं की और न ही तान्त्रिक पर कोई कार्रवाई की है।
आपको बता दें की पीड़ित राकेश का कहना है कि मेरे शरीर का कोई भी अंग ऐसा नही है जिस पर हमे यातनाएं नही की गई है। आरोप है कि पुलिस ने हमे उन लोगों के घर से आजाद कराया उसके पश्चात भी पुलिस उनके उपर कोई कार्यवाई नही कर रही है। अब युवक और उसके परिवार ने उन लोगों के डर के खातिर अब गांव से पलायन भी कर दिया है। अब युवक और उसका परिवार दूसरे गांव मे रहने वाले रिश्तेदार के घर पनाह लिए हुए है।

गांव से पलायन की सूचना पुलिस को है मगर पुलिस ने हमसे कोई संपर्क नही किया है और अब आलम ये है कि युवक और उसका परिवार दोबारा उस गांव मे जाने से मना कर रहा है। बता दें कि पीड़ित युवक का कोई अपराधिक इतिहास नहीं है। वह सिर्फ तान्त्रिक के तंत्रमंत्र का शिकार हो गया। वह दूसरे जिले मे रहकर मेनहत मजदूरी करता था। घटना से महज दस दिन पहले ही वह गांव आया था। उसके बाद ऐसी घटना घटित हो गई।