सलाम आगरा: भाईचारे का दिया पैगाम, हंगामे के बाद मंटोला में चहल-पहल..!

आगरा में मंटोला बवाल के अगले ही दिन आगरा अपनी लय में वापस लौट आया। मंटोला और आसपास के ही नहीं, शहर के तमाम बाजारों में मंगलवार को आम दिनों की तरह चहल पहल रही। दौर ए मुगलिया से चली सुलह ए कुल की परंपरा को कायम रखते हुए शहर ने एक बार फिर भाईचारे को सबसे ऊपर रखा है। जिन लोगों की दुकानों में तोड़फोड़ की गई, उन्होंने भी गिले-शिकवे भुलाकर यही कहा, आपसी रिश्ते सबसे ऊपर हैं। शहर के अमन में ही सबकी भलाई है।

loading...
जिस सदर भट्टी चौराहा पर सोमवार को पथराव, लाठीचार्ज, दुकानों में तोड़फोड़ तथा लूटपाट की गई थी, वहां मंगलवार सुबह ही बाजार सामान्य दिनों की तरह खुले। पुलिस अवश्य तैनात थी लेकिन न किसी तरह का तनाव था, न ही कोई खौफ। सोमवार को जामा मस्जिद के पास सबसे पहले सुभाष बंद हुआ था, मंगलवार को यहां चहल पहल थी। ऐसा नहीं लग रहा था कि सोमवार को कुछ हंगामा हुआ हो। फुलट्टी, शिवाजी मार्केट, सिंधी बाजार सब सामान्य रहे। स्कूल भी आम दिनों की तरह खुले। मैदानों में बच्चे खेलते नजर आए।

सदर भट्टी चौराहा के दुकानदार राजू चौरसिया ने कहा कि हमारी हलवाई की दुकान पर सबसे पहले तोड़फोड़ हुई मगर हम अमन चाहते हैं। सदर भट्टी में हिंदु-मुस्लिम दुकानदार भाई-भाई की तरह रहते आए हैं, बाहर के लोगों ने बवाल किया, पड़ोसियों से कोई शिकवा नहीं। शुभम शिवहरे ने कहा कि कुछ लोगों ने बाहर से आकर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की, मंटोला में हिंदु मुस्लिम भाइयों की तरह रहते हैं, इस भाईचारे पर कभी आंच नहीं आ सकती है। किसी से कोई गिला नहीं, सब अपने काम में लगे हैं।

मंटोला के हाजी भोलू ने कहा कि जिन लोगों की गलती है, उन्हें सजा मिलेगी। बाकी कोई नहीं है जो यहां माहौल को खराब करना चाहता है। मोहब्बत से रहने में सबका फायदा है, आगरा के लोग इसे अच्छी तरह समझते हैं। हम्मद शरीफ कुरैशी ने कहा कि यह सुलहकुल की नगरी है। यदि कभी कोई विवाद हो जाए तो वह थोड़ी बहुत देर का रहता है। इस बार भी यही हुआ है। पुलिस को चाहिए कि साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई करे।

मंटोला बवाल के पश्चात शहर के साथ ही कस्बों में भी चौकसी बरती जा रही है। पुलिस ने शहर के संवेदनशील इलाकों के साथ देहात में भी मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में रात की गश्त तेज कर दी है। अपर जिलाधिकारी प्रशासन निधि श्रीवास्तव ने सभी तहसीलों के उपजिलाधिकारियों को भीड़ हिंसा के विरोध में होने वाले प्रदर्शनों को लेकर सचेत कर दिया है। कहा है कि बिना अनुमति किसी को भी किसी भी प्रकार का प्रदर्शन न करने दिया जाए।