जिसे मुस्लिम समझकर बुलवा रहे थे जय श्री राम, उसने सुना दी रामायण की चौपाई, इसके पश्चात...!

घटना झारखंड के जामताड़ा की है, जहां रविवार को मिजियम रोड पर लुंगी पहनकर एक बुजुर्ग के ठेले के पास एक कार आकर रुकी। इसके पश्चात बुजुर्ग ने आपत्ति जताई क्योंकि उक्त युवकों ने कार को ठेले के सामने खड़ा किया था। इसके पश्चात युवकों ने बुजुर्ग को मुस्लिम समझ लिया और जबरन जय श्री राम बुलवाने लगे। हालांकि इन्ही सब के बीच बुजुर्ग ने कुछ ऐसा किया जिससे उनके होश उड़ गए।

loading...
दरअसल, युवक जिससे जबरन जय श्री राम बुलवा रहे थे उसने रामायण की पूरी चौपाई सुना दी। बुजुर्ग ने कहा, ‘बैर न कर काहू सन कोई, राम प्रताप विषमता खोई।' उसके पश्चात जब वहां देखते ही देखते लोंगो की भारी भीड़ जमा होने लगी। मौका देखते ही कार सवार युवक वहां से भाग निकले।


बुजुर्ग का नाम मोहनलाल है। बताया जा रहा है कि युवकों ने उन्हें नारे लगाने के लिए कहा था। बुजुर्ग कहते हैं कि आपसी सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की गई थी। उन्होंने कहा कि युवाओं ने कार से पहले हथकड़ी हटाने को कहा और उसके पश्चात जय श्रीराम बोलने को कहा। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच प्रारंभ कर दी। पुलिस ने कहा कि कार युवकों की तलाश कर रही है।