विश्व कप से बाहर पाकिस्तानी टीम पहुंची अपने घर, एयरपोर्ट पर हुआ इनके साथ इस प्रकार का व्यवहार..!

आईसीसी वर्ल्ड कप का वक्त चल रहा है और एक के बाद एक कई देश इस रेस से बाहर होते जा रहे हैं। अब सेमिफाइनल की टीम भी सिलेक्ट हो गई है। भारत और न्यूजीलैंड सेमीफाइनल खेलेगी और इसके पश्चात डिसाइड होगा कि फाइनल कौन खेलेगा। मगर इनसब में पाकिस्तान का सपना वर्ल्ड कप पाने का टूट गया। पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के साथ ही करोडो़ं पाकिस्तानियों का सपना भी टूट गया है और टीम अपने देश वापस चली गई तथा जब ये वहां पहुंच गई। विश्व कप से बाहर पाकिस्तानी टीम पहुंची अपने घर, इसके बाद वहां क्या हुआ ये आपको अवश्य जानना चाहिए।

विश्व कप से बाहर पाकिस्तानी टीम पहुंची अपने घर
टीम पाकिस्तान को भारत से बुरी तरह हार मिलने के पश्चात पाकिस्तानी आवाम को उम्मीद थी कि उनकी टीम सेमिफाइनल तो खेलेगी मगर उनका ये सपना भी पूरा नहीं हो सका। पाकिस्तान क्रिकेट टीम की फैंस ने सोशल मीडिया पर बहुत आलोचना की और अंदाजा लगाया जा रहा था कि अगर ये टीम स्वदेश लौटेगी तो खिलाड़ियों के साथ कुछ अनहोनी ना हो जाए मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ। रविवार को सुबह सरफराज अपनी टीम के साथ कराची एयरपोर्ट पर पहुंचे और यहां उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया। खिलाड़ियों के आने पर किसी तरह की कोई अनहोनी ना हो इसके लिए प्रशासन ने फोर्स तैनात की थी और पूरे इलाके में सुरक्षा को लेकर पूरी चौकसी हुई थी मगर खिलाड़ियों के साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ।
खिलाड़ियों को पाकिस्तान सरकार ने एक खास सुरक्षा मुहैय्या कराई थी और उन्हें सही सलामत उनके घर तक पहुंचाया गया। इस विश्वकप में पाकिस्तान ने नौ में पांच मैच जीते थे मगर नेट रन रेट के आधार पर वो सेमीफाइनल से बाहर हो गई थी। पाकिस्तान पहुंचने के बाद पाकिस्तानी टीम के कप्तान सरफराज अहमद ने प्रेस कॉन्फेंस में बताया कि शुरुआत में हारने के पश्चात उन्होंने जीतने की पूरी कोशिश की थी लेकिन पिच उनकी टीम को कुछ खास मदद नहीं मिल पाई थी।
सरफराज ने कहा, ”हमें भी विश्व कप से बाहर होने का उतना ही दुख है जितना पूरे देश को है कोई भी टूर्नामेंट में हारने के लिए नहीं जाता है। शुरुआती पांच मैच हमारे लिए अच्छे नहीं रहे हैं तथा पहले मैच के बाद हमने जीत की लय पकड़ी पर श्रीलंका के खिलाफ बारिश होने की वजह से हम नहीं खेल पाए और फिर भारत और ऑस्ट्रेलिया से भी हार गए। खराब प्रदर्शन के पश्चात हमने आपस में कुछ बातें की और फिर अगले चार मैचों में हमने अच्छा खेला। एक कप्तान के तौर पर मैं टीम के प्रदर्शन से खुश था और हम नहीं जीते ये हमारा मुकद्दर था।”

सरफराज ने आगे कुछ ऐसा कहा
सरफराज अहमद ने इसी कॉन्फ्रेंस में आगे कहा, ‘टीम में युवा खिलाड़ी हैं और वो टीम को अगले लेवल पर ले जा सकते हैं। यदि बात शोएब मलिक के बारे में की जाए तो उन्हें एक फेयरवेल मिलना चाहिए था, हालांकि उन्हें टीम की ओर से फेयरवेल दिया गया था और हमारी दुआएं उनके साथ ही हैं। अपनी कप्तानी को मैं अगले टूर्नामेंट तक और भी मजबूत बना लूंगा नहीं तो किसी और को इसका मौका दे दूंगा। यदि हम आज हारे हैं तो जरूरी नहीं कि हमेशा हारेंगे।’ कप्तानी पर सरफराज ने कहा कि इस पर बोर्ड फैसला करेगा कि मैं कप्तान बनकर रहूंगा या नहीं।