टिक-टॉक वीडियो में साम्प्रदायिकता भड़काने के मामले में एजाज़ खान अरेस्ट...!

एक्टर और सोशल मीडिया स्टार एजाज़ खान को पुलिस ने एक बार फिर अरेस्ट कर लिया है। इस बार मामला मजहबी है। उन पर साम्प्रदायिकता फैलाने का आरोप है। ये केवल अभी की बात नहीं है पिछले काफी समय से कुछ चीज़ें चल रही हैं, जिस पर पुलिस ने एक्शन लिया है। एजाज़ ने एक टिक-टॉक वीडियो बनाकर ये सारी मुश्किलें बुलाई हैं। हम आपको बताते हैं कि मसला क्या है, जिस मामले में एजाज़ खान की गिरफ्तारी हुई है।
loading...
1) 18 जून को झारखंड के सरायकेला खरसावां ज़िले में तबरेज़ अंसारी नाम के एक 22 साल के लड़के को भीड़ ने चोरी के आरोप में पकड़ा। इसके बाद उसे एक खंभे से बांधकर पीटा गया। भीड़ उससे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ का नारा लगवाना चाहती थी। इस घटना के चार दिन बाद तबरेज़ की मृत्यु हो गई।
2) तबरेज़ की लिंचिंग के विरोध में टिक-टॉक पर 07 टीम ने एक वीडियो अपलोड किया। इस टीम में पांच लड़के हैं- फैज़ल, हसनैन, फैज़, अदनान और सादन। ये लोग टिक-टॉक वीडियोज़ बनाते हैं। इस टीम को टिक-टॉक पर लगभग चार करोड़ लोग फॉलो करते हैं। ये कॉन्ट्रोवर्शियल वीडियो अपलोड किया गया फैज़ल के चैनल ‘मिस्टर फैज़ू’ से। फैज़ू टिक-टॉक पर सबसे अधिक फॉलो किया जाने वाला सेलेब्रिटी है। उसे तकरीबन 21 मिलियन यानी दो करोड़ से ज़्यादा लोग फॉलो करते हैं।
3) इस ग्रुप ने जो वीडियो अपलोड किया उसमें इन्होंने कहा था कि बेगुनाह तबरेज़ की हत्या के बाद यदि तबरेज़ का बेटा बड़ा होकर बदला लेगा, तो मुस्लिमों को आतंकवादी मत कहिएगा। इस वीडियो को लेकर इंटरनेट दो पाटों में बंट गया। एक इनकी वकालत में दूसरा इनके विरोध में। यहां से सीन में आते हैं एजाज़ खान, जो इन लड़कों की वकालत करने वाली जमात में थे।
4) 8 जुलाई को शिव सेना के आईटी सेल चीफ रमेश सोलंकी ने इस ग्रुप के खिलाफ मुंबई के एलटी रोड थाने में केश दर्ज करवा दी। वीडियो में भड़काऊ और हिंसा को शह देने वाले कॉन्टेंट को देखकर मुंबई पुलिस हरकत में आ गई। कुछ ही घंटे बाद ये वीडियो सोशल मीडिया से हट गया। मगर तब तक ये कई लाख बार देखा जा चुका था। बाद में टिक-टॉक ने फैज़ल समेत इस ग्रुप के तीन लोगों के अकाउंट भी सस्पेंड कर दिए।
5) एजाज़ ने इन लड़को को सपोर्ट करते हुए फैज़ल के साथ अपना एक पुराना वीडियो शेयर किया। इसमें ये दोनों मुंबई पुलिस का मज़ाक बना रहे थे। इस वीडियो में हिंदी फिल्मों के डायलॉग के पीछे छिपकर ये लोग पुलिस का मज़ाक उड़ा रहे थे। और इस वीडियो का कैप्शन था- ”वारंट लाया है रमेश सोलंकी?”
6) इसके पश्चात एजाज़ का एक और वीडियो वायरल होना शुरू हुआ। इसमें वो नरेंद्र मोदी और देवेंद्र फड़नवीस से मॉब लिंचिंग के खिलाफ कुछ एक्शन लेने की बात कह रहे हैं। इस वीडियो में एजाज़ ने कहा कि उन्हें पता है कि प्रधानमंत्री लिंचिंग तथा लोगों से धार्मिक नारे लगवाने वालों के खिलाफ कुछ नहीं बोलेंगे क्योंकि ये उनके खास लोग हैं। इससे पहले भी एजाज़ ने 28 जून को एक वीडियो बनाकर मुसलमानों से सड़क पर उतरकर मॉब लिंचिंग का विरोध प्रदर्शन करने की अपील की थी।
7) इन्हीं वायरल वीडियोज़ में साम्प्रदायिकता और हिंसा भड़काने के मामले में एजाज़ खान को मुंबई साइबर क्राइम पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एजाज़ पर आईपीसी की धारा 153 ए और धारा 67  लगाई गई है। उन्हें जल्द ही कोर्ट में पेश किया जाएगा। हालांकि ये पहला मौका नहीं है जब एजाज़ को गिरफ्तार किया गया। कॉन्ट्रोवर्सी एजाज़ का सेकंड नेम है। पिछले वर्ष अक्टूबर में उन्हें नार्कोटिक्स डिपार्टमेंट ने ड्रग्स के साथ पकड़ा था।

8) एजाज़ अलग वजहों से कई बार पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं। 2017 में पुलिस ने उनके घर में ड्रग्स सप्लाई करने के शक में छापा मारा था। इसके अतिरिक्त 2016 में वो एक हेयरस्टाइलिस