पिता ने पहले प्रेमी के साथ किया यह काम और फिर नाबालिग बेटी का कर दिया ये हाल, जाने मामला..!

मजीठा में बेटी के प्रेम संबंध से नाराज एक परिवार ने बुधवार को दोपहर में पहले बेटी के प्रेमी का मर्डर कर दिया और बाद में नाबालिग बेटी को भी मौत के घाट उतार दिया। बेरहमी से की गई इन हत्याओं में तेजधार हथियार से बेटी के प्रेमी पवनदीप सिंह के गर्दन का एक हिस्सा अलग कर दिया। इसके कुछ वक्त बाद थोड़ी ही दूरी पर अनु के चेहरे पर तेजधार हथियारों से कई वार करके उसको मौत के घाट भी उतार दिया गया।
loading...
एसपी हरपाल सिंह ने बताया है कि पवनदीप के पिता राजपाल के बयान पर अनु के पिता बलकार सिंह, चाचा हरपाल सिंह, उनके रिश्तेदार ओंकार सिंह, व काशो, नौकर लाडी और दो अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। सभी आरोपित अभी फरार हैं और उनकी तलाश भी जारी है। मजीठा के बिजली घर के पास ही रहने वाले राजपाल सिंह ने उनके घर पर उनकी बेटी की शादी की तैयारियां चल रही थीं। 29 जून को पवनदीप की बहन की शादी है मगर शादी से तीन दिन पहले उनके बेटे की हत्या कर दी। पवनदीप की घर से कुछ दूरी पर रहने वाली अनु से दोस्ती हो गई। वह एक-दूसरे को बहुत पसंद भी करते थे।
बीते सोमवार को ही अनु अपने परिवार से झगड़ा करके घर से कहीं चली गई थी। उसके पिता बलकार को संदेह था कि पवनदीप उसे भगा ले गया है। वह सोमवार शाम अपने रिश्तेदारों के साथ उनके घर आया तथा उन्हें सबक सिखाने की धमकी दी। उन्होंने बलकार को समझाकर वापस भेज दिया।
इसके पश्चात बुधवार को दोपहर ही करीब एक बजे घर के बाहर ही खड़े पवनदीप पर बलकार ने अपने सात-आठ साथियों के साथ तेजधार हथियारों से हमला किया और वहां से भाग गए। शोर पडऩे पर जब वह घर के बाहर निकले तो पवनदीप लहूलुहान हालत में पड़ा था। उसे अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उसकी मौत हो गई। वहीं हत्यारोपितों ने कुछ देर बाद अनु की भी तेजधार हथियारों से हत्या करके शव अपने घर से कुछ दूरी पर फेंक दिया।

हत्या के मामले को लेकर पसोपेश में रही पुलिस
हत्या का केस दर्ज करने में पुलिस को बहुत ज्यादा समय लग गया। दरअसल, पुलिस पसोपेश में थी कि दोनों हत्याएं लड़की के परिवार ने ही किया है या फिर दोनों परिवारों ने एक-दूसरे के बच्चों को मारा है। देर शाम तक पुलिस घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी खंगालती रही। वहीं जब अनु का परिवार फरार हो गया तो हत्याओं को लेकर पुलिस का शक यकीन में बदला और अनु के पिता समेत सात लोगों पर केस दर्ज किया।