स्कूल जाने के लिए साथ निकली थी चार सहेलियां लेकिन वापस नहीं लौटी, जब पुलिस ने दबोचा तो लड़कों के साथ मिली इस स्थिति में...।

छत्तीसगढ़ में सामने आया है जिसमे स्कूल जाने के बहाने घर से निकली चार सहेलियां एक साथ घर से भाग गई। जब घर के एक के बाद एक सिटी कोतवाली पहुंचकर और गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई तो पुलिस महकमे में बवाल मच गया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने छानबीन की तो कमरे में कुछ लड़कों के साथ मिली। मिली जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह चारों सहेलियां विद्यालय जाने निकली थी। इस दिन स्कूल में साइकिल वितरण किया जाना था। चारों के स्कूल नहीं आने पर शिक्षकों ने शाम 4 बजे परिजन को फोन किया और उनके नहीं आने का कारण पूछा। यह सुनकर परिजन अवाक रह गए। इसके पश्चात परिजन अपने स्तर पर उनकी तलाश में जुट गए। रिश्तेदारों के यहां जानकारी ली। कोई जानकारी नहीं मिली, तब थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई।
loading...
थाना प्रभारी राजेश मिश्रा ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए सभी थानों को सावधान किया गया। टीम गठित कर जांच शुरू की गई। छानबीन के दौरान पता चला कि स्कूल ड्रेस पहने चार लड़कियां सिमगा में अपनी पायल और नाक की नथुनी बेचकर रायपुर की ओर गई हैं। इस पर टीम रायपुर रवाना की गई। जहां पर पुलिस ने रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, सराय, रैन बसेरा आदि में पूरी रात छानबीन की, मगर कोई सफलता नहीं मिली। जिस मोहल्ले से लड़कियां गायब हुई थी, उस मोहल्ले के कुछ लड़कों का अपराधिक रिकॉर्ड था। पुलिस ने उन्हें मामले में संदिग्ध मानते हुए उनके विषय में जानकारी ली। ये लड़के घर पर नहीं मिले। इसके बाद पुलिस ने इन लड़कियों को जोड़ते हुए उनकी संलिप्तता मानी और छानबीन की। पता चला कि ये लोग रायपुर के एक घर में छिपे हैं।
जहां पुलिस टीम ने दबिश दी और तीन आरोपियों के साथ गुमशुदा चारों लड़कियों को बरामद कर लिया। इसके पश्चात परिजन को जानकारी दी। उन्होंने राहत महसूस किया। लड़कियों की मनोदशा को ध्यान में रखते हुए महिला सेल प्रभारी नीता राजपूत, प्रधान आरक्षक पूनम ठाकुर ने उनसे पूछताछ कर बयान दर्ज किया। पुलिस के अनुसार चारों लड़कियां आपस में दोस्त हैं। एक ही स्कूल और एक ही कक्षा में पढ़ती हैं। आरोपियों ने चारों लड़कियों को फिल्मी स्टाइल में सब्जबाग दिखाए। उनके नाबालिग होने का लाभ उठाया। बहला-फुसला कर घर से भाग जाने पर मजबूर किया। पुलिस ने मामले की गंभीरता और युवकों के अपराधिक रिकॉर्ड को देखते हुए उनके खिलाफ ठोस कानूनी कार्रवाई करने का फैसला लिया है।