बंगलूरू से बरामद मैनेजर कोमल ने बताया पति की असली सच्चाई, पिता बोले-नहीं भेजेंगे ससुराल.!

दिल्ली से लापता हुई कोमल को बंगलूरू से बरामद कर पुलिस मंगलवार शाम लगभग सात बजे इंदिरापुरम थाने लेकर पहुंची। परिजनों से मिलते ही बेटी गले लगकर रो पड़ी। कोमल ने परेशान होकर पति को जेल भिजवाने की योजना बनाकर खुद कोयंबटूर के एक आश्रम में जाकर रहने का निर्णय कर लिया था। पिता का कहना है कि वह अब अपनी बेटी को ससुराल वापस नहीं भेजेंगे।
loading...
कोमल के पिता भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय सचिव अनिल तालान ने बताया कि पहले ही दिन से सुसरालियों ने बेटी का उत्पीड़न प्रारंभ कर दिया था। आरोप है कि लगातार वह दहेज की मांग करते रहे। उन्होंने मांग पूरी भी की ताकि बेटी का उत्पीड़न न हो। कोमल ने ससुराल वालों से कई बार मारपीट उत्पीड़न का विरोध किया। बेटी का फिर भी उत्पीड़न जारी रहा। कोमल का कहना है अभिषेक कुछ नहीं करता और उससे रुपये मांगता है। वह इन हालातों से निकलकर दूर रहना चाहती थी। अनिल तालान ने बताया कि वह अब अपनी बेटी को ससुराल नहीं भेजेंगे।

खाते से पहले ही निकाल लिए थे रुपये
पुलिस जांच में सामने आया है कि कोमल ने जाने से पहले ही खाते से रुपये निकाल लिए थे। पुलिस को कोमल के पास से एक आधार कार्ड मिला है। जिसमें तस्वीर कोमल की है और नाम कामाक्षी लिखा हुआ है। माना जा रहा है कि कोमल ने आधार कार्ड में नाम भी बदलवा दिया।

बेटी को पाकर खिले परिवार के चेहरे 
शाम लगभग सात बजे इंदिरापुरम पुलिस की टीम कोमल को लेकर इंदिरापुरम थाने पर पहुंची। बेटी के आने की जानकारी पर पहले से ही मां-पिता समेत पूरे परिवार, रिश्तेदार और भाकियू के पदाधिकारी थाने पर मौजूद थे। बेटी थाने पहुंचकर मां और पिता से गले लगकर रो पड़ी। उसने वापस ससुराल नहीं जाने की बात कही। बेटी को पाकर सभी के चेहरे खिल गए।
महिला को पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है। महिला को परिजनों के सुपुर्द कर दिया है। थाना इंदिरापुरम में पीड़ित परिजनों की तरफ से मुकदमा दर्ज कराया गया है। महिला दरोगा को भेजकर बयान लिए जाएंगे। इसकी पूरी वीडियोग्राफी कराई जाएगी। इसके पश्चात मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दर्ज कराए जाएंगे। उसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। अभिषेक अभी हिरासत में है, उससे पूछताछ जारी है।