सीनियर के दारू-मुर्गा की मांग के खिलाफ आवाज उठाने वाली महिला अफसर का हुआ तबादला..!

मध्यप्रदेश के गुना जिले की एसडीएम शिवानी गर्ग का तबादला हो गया है। शिवानी ने अपने सीनियर अधिकारी के खिलाफ शासन से शिकायत की थी कि वे नीचे के अफसरों तथा कर्मचारियों से हर शाम दारू और चिकन की मांग करते हैं। पूरा नहीं होने पर वे फोन कर हड़काते हैं।

loading...
दरअसल, गुना में तैनात एसडीएम शिवानी गर्ग का अब तबादला हो गया है। शिवानी गर्ग को अब दमोह का डिप्टी कलेक्टर बनाया गया है। इसे लेकर शनिवार को शासन की ओर से अधिसूचना जारी कर दी गई है। शिवानी ने अपने ही सीनियर अधिकारी के खिलाफ आवाज उठाई थी। साथ अन्य कर्मियों को हिदायत दी थी कि एडीएम की फरमाइश पूरा न करें।

क्या था मामला

दरअसल, एसडीएम शिवानी गर्ग ने ऑफिसियल ग्रुप में एक मैसेज डाला था कि यदि किसी तहसीलदार, आर आई या पटवारी ने एडीएम दीलीप मंडावी को शराब या चिकन पहुंचाया तो उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उसके पश्चात जिले के प्रशासनिक महकमे में बवाल मच गया। जैसे ही जिले के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को यह पता चला तो एसडीएम ने ग्रुप में शामिल पटवारी और अन्य सदस्यों को बुलाया और उनके मोबाइल से इसे डिलीट भी करा दिया।

फोन पर लगाते हैं डांट


तत्कालीन एसडीएम शिवानी गर्ग ने उस समय कहा था कि हर शाम एडीएम पदाधिकारियों को फोन कर उनसे अल्कोहल और नॉनवेज की डिमांड करते थे। यह मांगें अनुचित थी, पिछले दो-तीन महीने से हम लोगों के द्वारा यह पूरी भी की जा रही थी मगर उनकी मांगे बढ़ती जा रही थीं। इसके बाद मैंने व्हाट्स ग्रुप में मैसेज डाला कि ऐसी अनुचित मांगे पूरी करने की आवश्यकता नहीं है। वह अपने ऊपर दबाव पर बोली थीं कि जब मागें पूरी नहीं होती तो वे हम लोगों को बिना कारण फोन करके डांटते हैं।

एडीएम का पहले ही हो गया था तबादला


इन आरोपों के पश्चात गुना के एडीएम दिलीप मंडावी का पांच जून को ही तबादला हो गया था। एसडीएम द्वारा ग्रुप में डाले गए मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। उसके बाद ही एडीएम दिलीप मंडावी पर कार्रवाई की गई थी। दिलीप मंडावी को गुना से हटाकर भोपाल स्थित मंत्रालय में स्थानांतरित कर दिया गया है।