बात करते वक्त युवती के हाथ में फटा मोबाइल, यह बरतें सावधानियां..!

हरिद्वार ज्वालापुर में एक युवती के हाथ में मोबाइल फोन फट गया, जिससे युवती का हाथ जख्मी हो गया। घटना उस समय घटी जब युवती मोबाइल पर अपने रिश्तेदार से बात कर रही थी। युवती के भाई ने जहां से मोबाइल खरीदा था वहां जाकर कंपनी के अधिकारियों को मामले की जानकारी दी। उधर कंपनी के अधिकारियों ने मोबाइल फोन बदलकर देने का आश्वासन युवक को दिया है। जानकारी के अनुसार ज्वालापुर क्षेत्र के सराय में रहने वाले फिरोज ने तीन माह पूर्व रानीपुर मोड़ स्थित एक मोबाइल की दुकान से करीब 22 हजार रुपये की कीमत वाला मोबाइल खरीदा था। सोमवार शाम जब उसकी बहन फोन पर किसी से बात कर रही थी तो एकाएक फोन धमाके के साथ फट गया। गनीमत रही कि युवती को गंभीर चोट नहीं आई। धमाके के साथ ही युवती ने मोबाइल छिटक कर नीचे फेंक दिया। इसके बाद उसका भाई रानीपुर मोड स्थित दुकान में आया। दुकानदार ने कंपनी के टेक्निकल हेड से बात करा दी। टेक्निकल हेड ने जांच के साथ ही युवक को नया फोन देने का आश्वासन दिया है।

नामी कंपनी का है फोन

loading...
फिरोज की बहन के हाथ में मोबाइल फटने की घटना का सोशल मीडिया में वायरल हो गई। मोबाइल फटने को लेकर लोग तरह-तरह के कमेंट देने में लगे हैं। जो मोबाइल फटा है वह नामी कंपनी का है।

लोगों की चिंता बढ़ी

हरिद्वार में हाथ पर ही मोबाइल फटने की घटना ने मोबाइल उपयोग करने वालों की चिंता और बढ़ा दी है। मोबाइल एक्सपर्ट राजपाल तोमर और विनोद कुमार कहते हैं कि बीच-बीच में मोबाइल की सर्विंसिंग करवानी चाहिए। यह एक गैजेट है और गैजेट की उचित मेंटिनेंस भी आवश्यक है।

लोग बोले-मोबाइल कंपनियां दिशा-निर्देश करें जारी 

मोबाइल उपभोक्ता हरीश, राकेश कुमार, शीशपाल, दीवान सिंह, विशाल का कहना है कि मोबाइल कंपनियों को इस प्रकार के दिशा निर्देश सार्वजनिक करने चाहिए। जिससे मोबाइल फटने जैसी घटनाओं को लेकर उपभोक्ता सावधान रहें। विवरण पुस्तिका में इसका पूरा उल्लेख किया जाना चाहिए कि क्या-क्या सावधानी बरतें। यदि इसकी जानकारी उपभोक्ताओं को हो तो वे सावधानी बरत सकते हैं।

मोबाइल फोन प्रयोग करते समय ये सावधानियां बरतें

बात करने के समय को कम रखें। मतलब आधा घंटे या एक घंटे तक मोबाइल में बात करना घातक हो सकता है। इससे मोबाइल गरम होने लगता है।
अगर आप ज्यादा देर तक बात करते हैं तो फोन की जगह इयर फोन लगा कर बात करें।
चार्जिंग के समय मोबाइल का प्रयोग न करें। ऐसे में मोबाइल में ब्लास्ट की संभावना बढ़ जाती है।
मोबाइल फोन चार्ज करते वक्त फोन स्विच ऑफ करें और फिर चार्ज करें।
अगर बैटरी जल्द समाप्त होती है तो बैटरी बदलें, बैटरी ब्राडेंड कंपनी के ही लें।
जहां तक संभव हो मोबाइल बैटरी को हमेशा एक ही चार्जर से चार्ज करें।
मोबाइल की बैटरी यदि 20 प्रतिशत से कम हो जाए तो ही चार्ज करें, बार-बार चार्ज पर न लगाएं।
अगर आपके फोन में सिगनल कम है तो कॉल न करें। क्योंकि सिगनल कम होने पर मोबाइल फोन से अधिक रेडिएशन  निकलता है।
हर मोबाइल की एसएआर रेटिंग होती है। रेडिएशन से बचने के लिए आप ऐसे मोबाइल खरीदें जिसमें कम एसआर रेटिंग दी गई हो।