जानिए ऐसी क्या थी वजह,मां है पुलिस में सिपाही मगर बेटा निकल गया जूता चोर..!

जूते पहनने के लिए मां ने पैसे नहीं दिए तो दिल्ली पुलिस की महिला सिपाही का लड़का शोरूम से जूते चुराकर निकल पड़ा। वह अपने दोस्त के साथ नंगे पैर शोरूम में पहुंचा था। जहां से जूते पहनकर निकलते वक्त वे सीसीटीवी में कैद हो गए। फुटेज देखकर शोरूम के मैनेजर को जानकारी हुई तो उसने सिक्योरिटी गार्ड को फोन कर आरोपियों को पकडऩे को कहा। जबकि इस दौरान आरोपी का दोस्त भागने मेें सफल हो गया। किन्तु सिक्योरिटी गार्ड ने महिला सिपाही के बेटे को पकड़ लिया। इसके साथ ही पुलिस को खबर दी गई।
loading...
सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर सीसीटीवी फुटेज कब्जे में ले ली। पुलिस का कहना है कि आरोपी को जेल भेजकर उसके नाबालिग साथी का भी पता लगाने का प्रयत्न किया जा रहा है। एसएचओ सिहानी गेट उमेश बहादुर सिंह ने कहा कि गिरफ्तार आरोपी हर्ष उर्फ चीनू है। जो न्यू कोटगांव में रहता है। 20 वर्षीय चीनू के पिता दिल्ली पुलिस में सिपाही थे। जिनकी वर्ष 2008 में देहांत हो गई थी। उनकी जगह चीनू की मां को दिल्ली पुलिस में सिपाही की नौकरी मिल गई थी।
चीनू के परिवार में उसकी दो छोटी बहन भी है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह दिल्ली विश्वविद्यालय के श्री अरबिंदो कॉलेज से बीए कर रहा है। चीनू तृतीय साल का छात्र है। रविवार रात सवा 8 बजे वह अपने साथ 12वीं में पढऩे वाले अपने दोस्त को लेकर जीटी रोड स्थित डी. मार्ट शोरूम में गया था। दोनों नंगे पैर थे, जिस कारण डी. मार्ट के असिस्टेंट मैनेजर अमरदीप पाण्डेय की इन पर नजर चली गई।
दोनों जूते देखने लगे और फिर एक-एक जोड़ी जूते पहनकर मॉल से बाहर निकलने लगे। इसी समय उन्होंने सिक्योरिटी गार्ड को सूचना दी और गेट पर गाड्र्स ने चीनू को पकड़ लिया। हालांकि उसका साथी फरार होने मेंं कामयाब हो गया। चीनू ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसके जूते बहुत पुराने हो गए थे। वह कई बार मम्मी से पैसे मांग चुका था। पैसे नहीं देने पर उसने नंगे पैर जाकर जूते चुराने का योजना बनाया। एसएचओ का कहना है कि उसका इससे पूर्व का कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।