मन नहीं कर रहा था फिर भी स्कूटी की डिक्की खोलकर देखा, जाने क्या है पूरा मामला..!

छत्तीसगढ़ के महासमुंद में वाहनों की चेकिंग के दौरान एक और अपराध से पर्दा उठ गया। पुलिस दिनभर ट्रकों और दोपहियां वाहनों की जांच कर थक गए थे। इसी मध्य स्कूटी Honda Activa की जांच करने के दौरान डिक्की Honda Activa scooter में से जो अवैध सामान नजर आया। देखकर पुलिस कर्मियों की आंखें खुली की खुली रह गई। पुलिस अब आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।

ये है पूरा मामला   
loading...
दरअसल बागबाहरा के पिथौरा चौक के पास वाहनों की जाँच के दौरान पुलिस ने कोमाखान की ओर से आ रही स्कूटी क्रमांक सीजी 07 जीडी 6323 को रोककर खोज ली। पुलिस ने उससे आवश्यक दस्तावेज मांगे। मगर वह गोलमोल जवाब देने लगा। युवक की ऐसी बातें सुनकर पुलिस वालों का दिमाग फिर गया और जबरदस्ती स्कूटी की डिक्की खोलकर जांच करना प्रारम्भ कर दिया। इसके पश्चात डिक्की में बड़ा-सा पैकेट देखकर पुलिस ने युवक से सवाल जवाब किया। सही जवाब नहीं मिलने पर पुलिस ने पैकेट, 5 सौ रुपए नकदी और एक कीपैड मोबाइल को जब्त करके उसके विरुद्ध कार्रवाई की। जांच के पश्चात पुलिस ने बताया है कि सुपेला भिलाई के ओडियापार वार्ड क्रमांक 4 निवासी आरोपी आकाश बाघ 10 किलो गांजा लेकर जा रहा था। पूछताछ के दौरान युवक ने बताया है कि ओडिशा से गांजा लेकर वह भिलाई की तरफ जा रहा था। ज्ञात हो कि जून महीने में पुलिस ने 3 क्विंटल 56 किलो गांजा बरामद किया है।

अब तक 12 लोगों की हो चुकी है गिरफ्तारी
तस्करी के आरोप में पुलिस ने 12 लोगों को पकड़ा। एक जून को सिंघोड़ा पुलिस ने खाली सब्जी कैरेट की आड़ में गांजा तस्करी करते हुए तीन शख्स के कब्जे से तीन क्विंटल गांजा पकड़ा था। पिथौरा पुलिस ने जाइलो कार से 25 किलो व बागबाहरा पुलिस ने तीन लोगों से 21 किलो गांजा जब्त की थी। गांजा की तस्करी लगातार जारी है।

गांजा तस्करों पर पुलिस की पैनी नजर
पूर्व में पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने ओडिशा पुलिस व छग पुलिस की संयुक्त टीम बनाकर गांजा बेचने वालों पर कार्रवाई करने की बात कही थी। मगर ओडिशा पुलिस का साथ नहीं मिलने के वजह से छग पुलिस ओडिशा में कार्रवाई नहीं कर पा रही है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वेदव्रत सिरमौर ने कहा है कि जिले के रास्ते गांजा तस्करी करने वाले आरोपियों पर पैनी नजर है।