प्यार में पागल पत्नी ने अपने पति को रास्ते से हटाने के लिए रचा षड्यंत्र, आधी रात को प्रेमी संग कर दी ऐसी हालत..!

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में रिश्तों को तार-तार करने वाला मामला उजागर हुआ है। पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर अपने ही पति का मर्डर करवा दी। हालांकि मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने हत्याकांड में शामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों ने लता के कहने पर हत्या करना स्वीकार कर लिया। मामले का खुलासा करते हुए सिटी एएसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि लता ने हत्या करने के एवज में लवकुश को मुंबई के एक एक्टिंग ट्रेनिंग सेंटर की फीस देने का आश्वासन दिया था। पहले एक सप्ताह की छुट्टी लेकर आते थे और चले जाते थे। इससे किसी को परेशानी नहीं होती थी, लेकिन इस बार मर्चेंट नेवी का इंजीनियर के विश्वनाथ शर्मा पंद्रह दिन की छुट्टी लेकर आया था। इससे कुछ लोगों को परेशानी होने लगी और उसकी हत्या कर दी गई। हत्या इंजीनियर की ही पत्नी के वमसी लता ने अपने बॉयफ्रेंड लवकुश शुक्ला और उसके दोस्त अवनीश यादव से कराई थी।
loading...
गुढिय़ारी के बम्बलेश्वरी नगर निवासी मर्चेंट नेवी के इंजीनियर विश्वनाथ शर्मा शिपिंग के कार्य में देश-विदेश घूमते रहते थे। तीन-चार महीने में एक सप्ताह के लिए घर आते थे। घर में उनकी पत्नी लता और दो नाबालिग बच्चे रहते थे। विश्वनाथ के माता-पिता अलग से एकता नगर में रहते थे। उनका एक और मकान मोवा के दुबे कॉलोनी में है। उसमें लवकुश शुक्ला किराए से रहता है। अवनीश भी वहीं रहता है। लवकुश की लता से बातचीत होती रहती थी। शुक्रवार-शनिवार की रात विश्वनाथ अपने कमरे में गंभीर रूप से घायल अवस्था में मिले थे। परिजन उसे डीकेएस सुपरस्पेशिएलिटी हॉस्पिटल में ले गए, जहां रविवार को उसकी मौत हो गई। जांच के बाद पुलिस ने हत्या का मामला कायम कर जांच शुरू की थी।

घर पर था आना-जाना
लगभग डेढ़ साल से लता और लवकुश के बीच बातचीत हो रही थी। उसका लता के घर आना-जाना लगा रहता था। विश्वनाथ के रायपुर आने पर उसका आना-जाना बंद हो जाता था। मोबाइल में भी लता और उसके बीच लंबी बातचीत होती थी। इसी दौरान विश्वनाथ और लता के मध्य विवाद होता था। अक्सर वह एक सप्ताह के लिए घर आता था। इसके बाद वापस चला जाता था। विश्वनाथ 12 जुलाई को रायपुर आया था। इस बार वह 15 दिन से अधिक की छुट्टी पर था। शुरुआत के दो-तीन ठीक रहा। इसके बाद लता और विश्वनाथ के बीच विवाद होने लगा। फिर लता ने उसकी हत्या की साजिश रची। उसने लवकुश को हत्या के लिए उकसाया। लवकुश ने अपने दोस्त अवनीश को इसमें शामिल किया। घटना वाली रात जानबूझकर लता अपने बच्चों को लेकर दूसरे कमरे में सोने चली गई और विश्वनाथ को अलग कमरे में सोने के लिए बोल दिया। उसने घर का दरवाजा अंदर से खोल दिया, ताकि लवकुश चुपचाप घर में घुस सके।

एक घंटे में काम तमाम
प्लानिंग के तहत रात लगभग 2 बजे लवकुश और अवनीश घर में दाखिल हुए। दरवाजा खुला था। दोनों सीधे विश्वनाथ के कमरे में गए। उस वक्त विश्वनाथ गहरी नींद में सोया था।आरोपियों ने 5 किलो वजनी घन उठाया और सो रहे विश्वनाथ के सिर पर मार दिया। नींद में होने के कारण विश्वनाथ के मुंह से चीख भी नहीं निकली। इसके पश्चात लगातार चार-पांच वार किए और 3 बजे भाग गए। विश्वनाथ के दो नाबालिग बेटा-बेटी हैं। पिता को खून से लथपथ बिस्तर पर तड़पते हुए सबसे पहले उसकी बेटी ने देखा था। इससे दोनों भाई-बहन की मानसिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ा है। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस को नाबालिगों ने लवकुश के घर आने-जाने की जानकारी दी थी। इसके बाद पुलिस ने सबसे पहले लवकुश को उठाया और कड़ाई से पूछताछ की। उसके कॉल डिटेल भी खंगाले गए।