जासूसी के आरोप में सेना का जवान अरेस्ट, विदेशी महिला को देता था गुप्त सूचना..!

नारनौल पुलिस ने जासूसी के आरोप में सेना के एक जवान को अरेस्ट किया है। आरोपित सेना का जवान रविंद्र गांव बसई जिला महेंद्रगढ़ का रहने वाला है। आरोपित के पास से सेना के कैंपों की फोटो और गुप्त जानकारी मिली है। बताया जा रहा है कि रविंद्र की गिरफ्तारी नारनौल रेलवे स्टेशन पर बुधवार को हुई थी मगर पुलिस ने इसकी जानकारी बृहस्पतिवार को दी।
loading...
पुलिस ने बृहस्पतिवार को आरोपित सेना के जवान को कोर्ट में पेश किया जिसके पश्चात उसे दो दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। नारनौल पुलिस ने सेना के जवान की गिरफ्तारी सूचना आइबी और संबंधित सेना के अधिकारियों को भी दी है। सूचना के पश्चात आइबी के अधिकारियों ने भी मौके पर पहुंचकर आरोपित से पूछताछ की है।

विदेशी महिला को भेजी सेना की गुप्त जानकारी
पुलिस प्रवक्ता नरेश कुमार ने बताया कि रविंद्र 2017 में 5 कमाऊ रेजिमेंट फौज में भर्ती हुआ था। 2018 में जब आरोपित की पोस्टिंग अमृतसर में थी तब उसकी फेसबुक के द्वारा किसी विदेशी महिला से दोस्ती हो गई। पहले तो ये दोनों आपस में बातचीत करते रहे। इसके बाद जब रविंद्र ने महिला को बताया कि वह फौज में है तो दोनों वीडियो कॉलिंग करने लगे।
मार्च 2018 में विदेशी महिला ने रविंद्र से उसकी लोकेशन और सेना से संबंधित कुछ जानकारी मांगी। दिसबंर 2018 में विदेशी महिला ने आरोपित के अकाउंट में 5 हजार रुपये भी भेज दिया तथा कहा कि वह कोई सामान खरीद ले। पुलिस के अनुसार, रविंद्र देश की आंतरिक व बाहरी सुरक्षा से जुड़ी संवेदनशील जगहों की खबर महिला को देता रहा। जब आरोपी आठ जुलाई को 5 दिन की छुट्टी लेकर घर आया था और नारनौल स्टेशन पर उतरा जो पुलिस को इसके विषय में खुफिया जानकारी मिली कि यह फौज का सिपाही अपने देश की सुरक्षा जानकारियां किसी महिला के साथ साझा कर रहा है।
इसके पश्चात हरकत में आयी पुलिस ने आरोपित को रेलवे स्टेशन के पास स्थित एक चाय की दुकान से गिरफ्तार कर लिया। तलाशी के दौरान रविंद्र के पास से सात जिंदा कारतूस और दो मोबाइल व तीन सिम कार्ड मिले हैं। अब पुलिस इस बात की जानकारी कर रही है कि आरोपित जिन अलग- अलग नंबरों पर वाट्सएप चलाता था। अभी फिलहाल इस चीज की जानकारी नहीं मिल पायी है आरोपित किस देश की महिला से सोशल मीडिया के द्वारा बातचीत करता था। हालांकि ये संकेत मिल रहे हैं कि आरोपी के तार कहीं ना कहीं पाकिस्तान से भी जुड़े हो सकते है।