गांववालों ने एक अपराधी को पकड़ा, पुलिस को सौंपा, यूपी पुलिस ने कर दिया एनकाउंटर...!

यूपी पुलिस इधर कुछ सालों से एनकाउंटर के कारण सुर्ख़ियों में है। खासकर जब से योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री बने हैं। कई बार खबरों में, बयानों में और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की बहसों में इन मुठभेड़ों में फर्जी कह दिया जाता है। और अब जो मामला पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली से आ रहा है, उससे भी यह लग रहा है कि मामला कुछ साफ़ नहीं है। तस्वीर ये है कि शामली के खुरगान गांव के कुछ लोगों ने मोटरबाइक चुराते एक आदमी को पकड़ा। स्थानीय लोगों ने उसकी पिटाई की तथा पुलिस को सौंप दिया।अब पुलिस को अपराधी मिला सुपुर्दी में, मतलब किसी ने अपराधी लाकर उन्हें सौंप दिया। मगर थोड़ी ही देर बाद शामली पुलिस का दावा प्रकाश में आया कि उसी अपराधी को पुलिस ने एनकाउंटर में गिरफ्तार किया। अपराधी का नाम है शेर खान। घटना है शनिवार यानी 6 जुलाई की। जगह है शामली का खुरगान गांव। शेर खान गांव में बाइक चुराने की कोशिश कर रहा था। गांव वालों ने पकड़ लिया। वीडियो भी बनाया। वीडियो सोशल मीडिया पर आया।

गांववालों की पकड़ में शेर खान
शामली पुलिस के पास खुद की अपनी एक थ्योरी है, जिसे उसने स्थानीय मीडिया के सामने रखा है। शामली पुलिस के अनुसार, पुलिस को शेर खान तथा सोनू के बारे में सूचना मिली थी। पुलिस का कहना है कि जब पुलिसवालों ने बाइक पर सवार दो लोगों को रोकने की कोशिश की, तो उन्होंने पुलिस पर गोलियां चलायीं और भागने की कोशिश की। जवाबी फायरिंग में शेर खान को पैर में गोली लगी। उसे और उसके साथ सोनू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने यह भी कहा है कि चोरी की बाइक के अतिरिक्त दोनों आरोपियों के पास से देसी तमंचा, ज़िंदा कारतूस और चाकू बरामद हुआ है। पुलिस के एनकाउंटर के बाद का वीडियो भी आ गया है। इस वीडियो में शेर खान के पैर में गोली लगी है। गोली लगने की वजह से शेर खान को चलने में परेशानी हो रही है, ऐसा वीडियो देखकर लग रहा है। दोनों ही वीडियो कुछ घंटों के अंतराल पर बनाए गए हैं और शेर खान दोनों ही वीडियो में एक ही कपड़े पहने हुए है।

घटना के बाद पुलिस के साथ घायल शेर खान

इस वीडियो और प्रकरण के बारे में हमने खुरगान गांव के लोगों से बात की। चूंकि मामला पुलिस से जुड़ा है, इसलिए लोग जल्दी बात करने को राज़ी नहीं हो रहे थे। फिर भी गांव के एक व्यक्ति ने नाम न छापने की शर्त पर बात की। उन्होंने ‘दी लल्लनटॉप’ से बताया,“हमने कुल तीन लोग पकड़े थे। इनमें से एक भाग गया था। बाकी दो को हमने ही पुलिस के हवाले किया था।”इसके पश्चात हमने शामली के एसपी अजय कुमार से बात की। अजय कुमार ने घटनाक्रम अपने शब्दों में बताया,“वाहनों की चेकिंग हो रही थी। दो लोग चोरी की बाइक पर आए। फायरिंग की और घटनास्थल से भागने की कोशिश करने लगे। पुलिस ने गोली चलाई तो एक शख्स गिर पड़ा। फिर पुलिस ने दोनों शख्स को गिरफ्तार किया।”इसके फ़ौरन बाद एसपी अजय कुमार खुद ही गांव वालों द्वारा बनाए गए वीडियो के बारे में बताने लगे। उन्होंने कहा,

“इस मामले में एक वीडियो आया है। ऐसा कह रहे कि लोकल लोगों ने पकड़ा और पुलिस के हवाले किया। मगर वो वीडियो पुराना है।”हमने पूछा कि वीडियो कब का है? एसपी अजय कुमार ने बस इतना कहा कि वीडियो पुराना है। इस बारे में पूछने पर कि दोनों ही वीडियो में दिख रहे शख्स ने एक ही तरह के कपड़े पहने हुए हैं और लोग कह रहे हैं कि दोनों ही वीडियो कुछ ही घंटों के अंतर पर खींचे गए हैं, एसपी अजय कुमार ने कहा,“हमसे तो ऐसा किसी ने नहीं कहा। अब कपड़े एक होना एक कोइन्सिडेन्स हो सकता है। मगर उन्होंने यह भी कहा,“इस वीडियो की जांच हम एडिशनल एसपी द्वारा करवा रहे हैं। अगर पुराना है तो ठीक है। लेकिन यदि कुछ घंटे पहले का ही है तो ये पूछा जाएगा कि उसी रात इन लोगों (पुलिस) के हत्थे अपराधी कैसे चढ़ा?” अजय कुमार ने यह भी बताया कि दरअसल ये चार लोगों का गैंग है। इन लोगों के खिलाफ कोई मुकदमा दर्ज नहीं कराता। मामला सेटल हो जाता है। दो लोग पकड़े गए हैं। दो और लोग पकड़े जाने हैं।

शेर खान और सोनू के साथ शामली पुलिस
यूपी में हो रहे अधिकतर आपराधिक मुठभेड़ों की कहानी लगभग एक है। इन्हीं कहानियों को आधार बनाकर लोग कहते हैं कि यूपी में हो रही अधिकतर मुठभेड़ें झूठी हैं। बदमाश एक बाइक पर आए। पुलिस ने रोकने की कोशिश की। बदमाश ने फायरिंग की। पुलिस ने जवाबी फायरिंग की। मुठभेड़ में अपराधी घायल हुए और उन्हें