अपने बेटे का इलाज कराने सरकारी हॉस्पिटल पहुंचीं डीएम की पत्नी, तो सामने आया आश्चर्य करने वाला सच..!

रुतबे को दरकिनार कर नैनीताल डीएम सविन बंसल की पत्नी यहा शुक्रवार को बेटे के इलाज के लिए बीडी पांडे जिला अस्पताल पहुंची तो सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं का सच देख दंग रह गईं। यहा पर्चा बनवाने के लिए ही पहले तो उन्हें आधा घंटा लाइन में लगना पड़ा और फिर डॉक्टर के लिए इंतजार और जब डॉक्टर आए तो अपने कक्ष में बच्चे के साथ बैठी महिला को देख बिगड़ गए।
loading...
इस बारे में जब डीएम से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि व्यवस्था सुधारने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे। यहा लापरवाह डॉक्टरों पर कार्रवाई की जाएगी तथा फिर जिलाधिकारी सविन बंसल ने शुक्रवार को चोरगलिया का दौरा कर वहां की व्यवस्थाएं देखीं तो उनके पीछे उनकी पत्नी सुरभि बंसल बेटे सनव को दिखाने बीडी पांडे जिला अस्पताल पहुंचीं। यहा यदि वो अपना परिचय देतीं तो पूरा अमला उनके पीछे लग जाता लेकिन वह सामान्य जन की तरह पर्चा बनाने के लिए लाइन में लगीं।
आधे घंटे में पर्चा बन पाया और यहा उन्होंने बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एमएस रावत को बच्चे को दिखाया और फिर डॉ. रावत को दिखाने के पश्चात सुरभि बंसल दूसरे विशेषज्ञ चिकित्सक के पास गईं तो वह अपने कक्ष में नहीं थे। वह डॉक्टर के कक्ष में बैठकर इंतजार करने लगीं। यहा डाॅक्टर कुछ देर बाद आये तो यहा कमरे में महिला को बच्चे सहित बैठा देख बिगड़ गए और कहा कि जब डॉक्टर कक्ष में नहीं होते तो बाहर बैठकर इंतजार करना चाहिए।
इसके अतिरिक्त यहा डीएम की पत्नी को कई अन्य अव्यवस्थाओं से भी दो चार होना पड़ा। लेकिन जब वापसी में उन्हें लेने सरकारी गाड़ी पहुंची तो अस्पताल प्रशासन को हकीकत का पता चला, जिससे यहा खलबली मच गई। डीएम सविन बंसल ने बताया कि उनके बेटे का यह रूटीन चेकअप था, जिससे सीधे तौर पर अस्पताल की व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया जा सका।
यहा अस्पताल में मरीजों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है और डॉक्टरों के नदारद होने की शिकायत भी मिल रही है। व्यवस्थाएं सुधारने के लिए शख्त कदम उठाए जाएंगे और लापरवाही बरतने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने कहा कि डॉक्टरों को काउंसलिंग की भी जरूरत है कि प्रकार आमजन से व्यवहार किया जाए। यहा इसके लिए समय समय पर काउंसलिंग की भी व्यवस्था की जाएगी।