पुत्र न होने से दुःखी माँ ने दो बेटियों के साथ कुएं में कूदी, दोनों बेटियों की मौत, मां गंभीर..!

दोस्तों भारतीय समाज में कितनी भी जागरूकता लाई जाए मगर ग्रामीण परिवेश में आज भी बेटियों को बेटों के समान दर्जा नहीं दिया जाता है। बता दे जो आज लड़कियां आज खेल, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में देश का नाम रोशन कर रही हैं। जबकि कृषि के क्षेत्र में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान है। वहीं केन्द्र व राज्य सरकारें, बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, सुकन्या समृद्धि जैसा योजनाओं का फायदा देकर बेटों और बेटियों के बीच भेदभाव को समाप्त करने की कोशिश शुरू कर रही है। लेकिन मध्यप्रदेश के सीधी जिले की एक घटना ने सबके कलेजे को झकझोर कर रख दिया है..
loading...
आपको बता दे बेटियों का गुनाह केवल इतना था उनके पास एक भाई नहीं था। आए दिन सास-ससुर के ताना-बाना को सुनकर दुखियारी मां ने पति की गैर मौजूदगी में अपने कलेजों के टुकड़ों को लेकर सुबह कुएं में छलांग लगा दिया। गहरे कुएं में डूबने के वजह से दो मासूम बेटियों की मौके पर मौत हो गई। वहीं कलयुगी मां जिला अस्पताल में जीवन की जंग लड़ रही है। वही एक बेटी सिर्फ इसलिए बच गई क्योंकि वह दादा-दादी के साथ सो रही थी।

मां ने उठाया दर्दनाक कदम
मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार की सुबह 4 बजे सिटी कोतवाली थाना अंतर्गत खजुरी गांव निवासी महिला सावित्री तिवारी पति कमलापति 25 साल दो बेटियों सहित कुएं में कूद गई। बता दे गहरे कुआं में गिरने के वजह से दो बेटियों की मौके पर मौत हो गई। वहीं अभागन मां सुरक्षित बच गई। जबकि आसपास के लोगों को जैसे ही हादसे की जानकारी मिली तो आनन-फानन में पुलिस की सहायता से मां को बाहर निकालकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बता दे वहीं मासूम बेटियों के शव को परिजनों को सौंप दिया गया है।

समाज में बेटियां होना गुनाह
वही सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुत्र न होने से क्षुब्ध महिला ने ये दर्दनाक कदम उठाया है। जबकि तीन बेटियों के बाद एक बेटा न होने के वजह के अक्सर सास-ससुर और गांव वाले ताना देते थे। रोज-रोज पुत्र न होने की बात से महिला खिन्न हो उठी थी। बता दे इसलिए रात में महिला ने योजना बनाया और सुबह दो बेटियों को लेकर कुआं में कूद गई। तीसरी बेटी इसलिए बच गई क्योंकि वह दादा, दादी के साथ सो रही थी। यदि महिला उसको लेकर जाती तो प्लान फेल हो जाता ऐसे में दो बेटियों को लेकर कुआं में छलांग लगा दी।

इन बेटियों की हुई मौत
पुलिस ने यह बताया कि रागनी तिवारी पिता कमलापति तिवारी 6 वर्ष, शुनाक्षी तिवारी पिता कमलापति तिवारी 2 वर्ष निवासी खजुरी की डूबने से मृत्यु हो गई। जबकि वहीं मां सावित्री तिवारी पति कमलापति तिवारी 25 वर्ष का घायल अवस्था में जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है।