थाने में फौजी को निर्वस्त्र करके पीटने का इल्जाम, वीडियो बनाकर किया वायरल..!

थाना सदर के तहत चौकी बहादुरगढ़ पुलिस पर छुट्टी पर घर आए फौजी को नंगा करके उसके साथ मारपीट करने का आरोप लगा है। घटना शनिवार रात 10 बजे के बाद की है। परिवार वालों ने इसकी वीडियो बनाकर सोशल साइट्स पर डाल ली। वीडियो में जहां चौकी के टूटे पड़े शीशे दिखाई दे रहे हैं, वहीं खून से लथपथ फर्श के अतिरिक्त फौजी को एंबुलेंस में लेकर जाते हुए कैप्चर किया गया है। घटना की वीडियो वायरल होने के बाद चौकी बहादुरगढ़ पुलिस व फौजी के परिवार के बीच समझौता हो गया, मगर वीडियो वायरल होने के कारण सीनियर पुलिस अधिकारियों ने इसका नोटिस लिया है। सुखविदर सिंह नाम के फौजी के खिलाफ उसके ही पिता ने मारपीट व तोड़फोड़ की कंप्लेंट दर्ज करवाई थी, जिसके पश्चात पुलिस चौकी में फौजी के पहुंचने के बाद हंगामा हो गया।

यह है पूरा मामला
loading...
फौज में सब इंस्पेक्टर तैनात सुखविदर सिंह छुट्टी पर घर आया था। यहां घर में किसी बात को लेकर परिवार के साथ झगड़ा हो गया तो सुखविदर सिंह के पिता ने चौकी बहादुरगढ़ पुलिस को कंप्लेंट कर दी। कंप्लेंट मिलने के पश्चात पुलिस पार्टी सुखविदर सिंह के घर पहुंची थी। सुखविदर सिंह जब पुलिस चौकी पहुंचा तो बवाल हो गया। यहां पर पुलिस व सुखविदर सिंह आपस में उलझ गए। मौके पर पहुंचे सुखविदर सिंह के भाई बलविदर सिंह ने आरोप लगाया कि वह जब पुलिस चौकी पहुंचा तो देखा कि उसके भाई को नंगा करके पुलिस मुलाजिम पीट रहे थे। मारपीट के दौरान चौकी का शीशा भी टूट गया और भाई सुखविदर लहूलूहान हो गया। चौकी में तैनात ड्यूटी अफसर व अन्य मुलाजिमों ने मेन गेट बंद करके भाई को बुरी तरह से पीटा तथा उन्होंने मौके पर पहुंचकर पुलिस चौकी का गेट खुलवाया था। विरोध करने के बाद भाई को चौकी से बाहर निकाला तो उसे एंबुलेंस में लेकर अस्पताल पहुंचे थे।

मां से हाथापाई के आरोप भी लगाए

बलविदर सिंह ने कहा कि जब उनकी मां पुलिस चौकी पहुंची तो मुलाजिमों ने उनके साथ भी धक्कामुक्की की थी। चौकी में कोई भी महिला पुलिस उपस्थित नहीं थी, जिसके बावजूद उनकी मां से हाथापाई की। बलविदर ने कहा कि पुलिस ने उसके साथ भी हाथापाई की, जिस वजह से उसकी टी-शर्ट भी फट गई।

नशे की हालत में खुद शीशे से टकराया फौजी : एसआई

चौकी बहादुरगढ़ के इंचार्ज एसआई अंकुरदेव सिंह ने कहा कि फौजी के खिलाफ उसके पिता ने कंप्लेंट दी थी कि वह घर में तोड़फोड़ कर रहा है। जिसके पश्चात फौजी खुद ही थाने में आया। यहां आकर मुलाजिमों को गालियां निकाली। जब उसने खुद का सिर व हाथ मारकर शीशा तोड़ा तो बचाने के चक्कर में मुलाजिम भी जख्मी हुआ है। फौजी के भाई एंबुलेंस सर्विस में काम करते हैं तो खुद ही एंबुलेंस लेकर चौकी आए और अपने भाई को लेकर चले गए। पुलिस ने फौजी के साथ मारपीट नहीं की है बल्कि फौजी ने चौकी के अंदर पेशाब करने के साथ-साथ अपने कपड़े भी खुद ही उतारे थे। इस मामले में परिवार का आपसी समझौता लिखित रूप में हो चुका है। पुलिस के संबंध में समझौता हो गया है, इसलिए कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है।