पति-पत्नी दोनों ने एक साथ किया CGPSC की परीक्षा में टॉप,अपने हाथों से नोट्स बना कर पत्नी को देता था पति..!

कहते हैं यदि पति-पत्नी की समझ मिलती हो तो कभी झगड़े होते ही नहीं है। अगर झगड़े नहीं होंगे तो प्यार ही प्यार होगा और दोनों एक-दूसरे की सहायता कर पाएंगे। अगर दोनों दंपत्ति एक-दूसरे के प्रति सम्मान रखते हैं तो कामयाबी भी उनके कदम चूमती है। कुछ ऐसा ही तालमेल रायपुर के दंपत्ति में है जिन्होंने एक-दूसरे की मदद से पति-पत्नी ने किया CGPSC की परीक्षा में टॉप, इसके पश्चात दोनों की वाहवाही पूरे प्रदेश में होने लगी है। चलिए बताते हैं इनकी सफलता की कहानी।

पति-पत्नी ने किया CGPSC की परीक्षा में टॉप
loading...
प्रदेश में पहली बार किसी भर्ती परीक्षा में पति-पत्नी ने मेरिट लिस्ट में पहला और दूसरा स्थान हासिल किया है। छत्तिसगढ़ लोक सेवा आयोग की तरफ से 36 पदों के लिए आयोजित मुख्य नगर पालिका अधिकारी वर्ग ख और ग की भर्ती परीक्षा में रायपुर के अनुभव सिंह और विभा सिंह ने टॉप कर लिया है। लिखित परीक्षा में अनुभव को 300 में से 278 और विभा को 300 में 268 अंक मिले हैं। वहीं इंटरव्यू में उन्हें क्रमश: 30 में 20 और 15 नंबर दिए गए हैं।
कंप्यूटर साइंस से बीई करने वाले 35 वर्ष के अऩुभव ने अब तक 20 परिक्षाएं दिए हैं। अनुभव चार सरकारी नौकरी में सिलेक्ट हुए मगर छोड़ दी थी। विभा वर्तमान में जनपन पंचायत बिल्हा में एडीईओ हैं और वे भी साल 2008 में पीएससी के लिए तैयारी कर रही थी। साल 2008 में पीएससी की प्रारंभित परीक्षा पास कर मेन परीक्षा दे रहा था मगर इंटरव्यू तक नहीं पहुंच सका था। विभा ने जॉब करते हुए सीएमओ की तैयारी की और दूसरा स्थान प्राप्त किया।
विभा सिंह ने अब तक 10 से अधिक परीक्षाएं दी हैं उनके पति जब जॉब में थे तब पढ़ाई पर फोकस नहीं कर पा रहे थे, इसलिए पढ़ाई छोड़ दी। कई लोगों ने कहा कि पत्नी काम करती है और ये घर पर बैठा है तो पति ने सबको इग्नोर कर दिया और पढ़ाई पर ध्यान देता था। पत्नि और परिवार वालों ने उनका हौंसला बढ़ाया और पहले दोनों ने कोचिंग करके पढ़ाई की। फिर एक वर्ष से उनकी स्ट्रेटजी और हिंदी ग्रंथ अकादमी की किताबों से पढ़ाई की। पति अपने और पत्नी के लिए नोट्स तैयार करता था, ऑनलाइन वीडियो देखता था। पिछले सालों के पेपर के पैटर्न समझे। वहीं विभा रोज ऑफिस जाती थी और पति घऱ संभालने के साथ नोट्स बनाता था।