11 लाख रुपए में बिका है ये 'बकरा', इसकी खासियत जानकर हैरान हो जाएंगे आप

जयपुर शहर में साेमवार को मनाई जाने वाली बकरा ईद की तैयारियां जाेराें पर है। मुस्लिम समाज में ईद-उल-अजहा का त्याैहार खासताैर में त्याग अाैर कुर्बानी के रूप में मनाया जाता है। शहर में हर बार की तरह इस बार भी दिल्ली राेड पर बकरा मंडी सज गई है। प्रदेश के अलग-अलग जिलाें से बकरे बेचने वाले मंडी में डेरा जमाए हैं।
loading...
मंडी में इस बार 11 लाख के बकरे के अलावा दस हजार से लेकर से ढाई लाख रुपए तक के बकरे बिकने के लिए आए हैं। वजन, खुराक और नस्ल के हिसाब से बकराें की अलग-अलग रेट हैं। हालांकि बकरा विक्रेता इस बार मानसून सीजन के चलते मंडी में बिकवाली कमजाेर बता रहे हैं। 
पीठ पर अल्लाह लिखे हुए नाम का बकरे की कीमत 11 लाख रुपए है। इस बकरे के मालिक कराैली के सलेमपुर निवासी हाफिज अब्दुल लतीफ ने बताया कि बकरे की पीठ पर जन्म से यह अल्लाह लिखा हुआ है जाे जिबह के दाैरान बिल्कुल साफताैर पर पढ़ा जाएगा।

जुड़वा शाहरुख-सलमान भी बिकने के लिए आए
मंडी में जुड़वा हुए बकरे भी बिकने आए हैं। ऐसे ही शाहरुख-सलमान की जाेड़ी कीमत 40 से 50 हजार रुपए है। अलवर से बकरे बेचने आए दाैलत बताते हैं इस बार मंडी में बिकवाली कम है। बारिश के चलते जिले के बाहर से लाेग खरीद करने नहीं आ पा रहे हैं।

गूजरी नस्ल के बकरे होते हैं सबसे ज्यादा भारी
मंडी में इस बार गूजरी, ताेतापुरी और अजमेरी नस्ल के बकरे भी बिकने आए हैं। इसमें सबसे भारी गुजरी नस्ल के बकरे हैं। गूजरी नस्ल के बकरे बेचने अाए जवाहर नगर निवासी शाकिब ने बताया कि उनके पास चार बकरे हैं। एक बकरे का वजन करीब 180 से 200 किलाे है और एक बकरे की कीमत ढाई लाख रुपए है। डाइड में इन बकराें काे दूध, जाै, चना और हरा चारा खिलाया जाता है। एक बकरे की डाइड पर राेजाना 300 से 500 रुपए खर्च हाेते हैं।