बुढापा है सामने लेकिन फिर भी किया ऐसा काम की लोग हैं हैरान, 83 साल के बूढ़े ने एक लड़की से किया शादी

शादी के आपने अजब-गजब किस्से तो सुने ही होंगे. लेकिन आज जो किस्सा हम आपको बताने जा रहे है वो वाकई हैरान कर देने वाला है. ये कहानी राजस्थान की है जहां एक 83 साल के एक बूढ़े अपनी पोती की उम्र की लड़की से शादी करके सबको हैरान कर दिया है. जिस उम्र में लोग अपनी जिंदगी के आखिरी दिन गिनते है उस उम्र में इस व्यक्ति ने न सिर्फ अपनी शादी धूमधाम से रचाई बल्कि बच्चे पैदा करने की भी सोच रहा है.
loading...
राजाओं की गढ़ कहे जाने वाले राजस्थान में इस तरह की परम्पराएं सदियों से चलती ही आ रही है. राजस्थान के एक गाँव के एक 83 साल के बूढ़े ने अपनी पोती की उम्र की छोटी लड़की के साथ शादी कर लिया. यह अनोखी शादी का मामला कुडगांव क्षेत्र के सैमरदा गांव का बताया जा रहा है.
दरअसल ये शादी बेटे की चाहत में की गयी है. 83 साल के सुखराम की जीवन में उस वक़्त दुख का पहाड़ टूट पड़ा जब उसके 30 साल के बेटे की मृत्यु हो गई. इस घटना के बाद सुखराम (Sukhraam) को ये चिंता सताने लगे की उसके मरने के बाद उनके धन दौलत का वारिस कौन होगा.
सुखराम के बेटे की मौत 2 साल पहले ही हो गयी थी. इसके बाद सुखराम और उसकी पत्नी ने सुखराम की दूसरी शादी कराने का निर्णय लिया ताकि एक नए वारिस को जन्म दिया जा सके. सुखराम की शादी में उसकी बेटी, दामाद सहित सहित अन्य परिजन भी शादी में शामिल हुए. इस शादी में सबसे हैरानी की बात ये हुई कि सुखराम की पहली पत्नी भी वहां मौजूद थीं. खबरों की मानें तो उन्होंने ही सुखाराम को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित किया.
आज भी भारत में वारिस को लेकर इस तरह की मानसिकता लोगों में है ये बहुत ही सोचने वाली बात है. सुखाराम ने अपनी शादी की 60वीं वर्षगांठ पर अपनी पहली पत्नी की मौजूदगी में न सिर्फ दोबारा शादी रचाई बल्कि अपनी पत्नी को ये वचन भी दिया है कि वो बेटा ही पैदा करेंगे.
ये बात सोचने वाली है की वो शख्स जिसका एक पैर कब्र में हो वो बच्चे पैदा करने की सोच रहा है. जरा ये सोचिए की अगर ये व्यक्ति बच्चा पैदा नहीं कर पाया तो फिर नौजवान उस लड़की के साथ क्या जिंदगी भर क्या होगा ?