नाम है इसका 'एक किलो', इस गलत काम में दर्ज है शतक का रिकॉर्ड, जानें

भोला सा चेहरा। इकहरा बदन और छोटा कद। नाम इसका एक किलो है। देखने में मासूम लगने वाला शख्स यह बेहद शातिर है। चोरी की वारदातों का शतक बनाकर यह रिकार्ड बना चुका है। फीरोजाबाद के शातिर को पुलिस ने तीन माह पहले एत्माद्दौला में हुई डकैती में गिरफ्तार किया है। उस पर 15 हजार रुपये का इनाम भी है। एत्माद्दौला के शांता कुंज में अर्पण बाजपेयी के घर में बदमाशों ने पत्‍नी को बंधक बनाकर डकैती डाली थी। 14 मई को पुलिस सात लोगों को गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश कर चुकी है। दो आरोपित वांछित थे। इनमें से एक फीरोजाबाद के रामगढ़ निवासी इमरान उर्फ एक किलो को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया।
loading...
पुलिस ने उससे पूछताछ की तो चौंकाने वाली हकीकत सामने आई। इमरान ने बताया कि वह 15 वर्ष की आयु से ही चोरी कर रहा है। पहली चोरी पड़ोसी के घर की थी। पड़ोसी ने मुकदमा लिखाया और इमरान को किशोर संप्रेषण गृह में भेज दिया गया। वहां से छूटते ही इमरान ने गिरोह बना लिया। उसका कहना है कि फीरोजाबाद के रामगढ़ और रसूलपुर थाना क्षेत्र से वह करीब 50 चोरी की वारदात कर चुका है। पांच बार फीरोजाबाद पुलिस उसे जेल भेज चुकी है। वहां पुलिस का दबाव बढ़ा तो वह आगरा आकर वारदातें करने लगा। यहां दो वर्षो में वह कई थाना क्षेत्रों में 50 चोरी कर चुका है। 
पुलिस को वह उन घरों के पते भी पूरे नहीं बता सका, जिनमें चोरी की थी। कद और हुलिए से वह सीधा सादा लगता है। अब उसकी उम्र 28 वर्ष है। एक्टिवा लेकर पहले वह घरों की रेकी करता था। इसके बाद रात को गिरोह लेकर चोरी करने पहुंच जाता। अधिकतर बंद घरों को ही निशाना बनाते थे। एत्माद्दौला में पहली बार ही उन्होंने डाका डाला। गिरोह में एक ऑटो वाला साथ रहता था। इसमें वे सामान ले जाते थे। पुलिस अब उसके द्वारा दी गई जानकारी की तस्दीक कर रही है। इंस्पेक्टर एत्माद्दौला उदयवीर सिंह मलिक ने बताया कि गिरफ्तार हुआ शातिर के अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है। गिरफ्तार करने वाली टीम में एसआइ अवधेश पुरोहित, कांस्टेबल देवेंद्र, शरद, अरुण कुमार आदि शामिल थे।