गर्भवती महिला के लिए एनसीसी कैडेट्स बनीं काफी ज्यादा मददगार, चलती ट्रेन में ही कराई डिलीवरी

बाघ एक्सप्रेस ट्रेन में गुरुवार सुबह गोरखपुर विश्वविद्यालय की कुछ महिला एनसीसी कैडेट्स ने अपने ही कोच में सवार एक गर्भवती महिला का सफल प्रसव करवा कर मिसाल पेश की। उन्होंने न केवल महिला का प्रसव कराया, बल्कि लखनऊ स्टेशन पर डॉक्टर बुलाकर जांच भी कराई। महिला समेत ट्रेन में मौजूद सभी यात्रियों ने एनसीसी कैडेट्स के साहस को सलाम किया।
loading...
गर्भवती महिला का नाम नेहा है। वह बुधवार शाम साढ़े छह बजे अपनी बहन के घर हरदोई जाने के लिए बाघ एक्सप्रेस (13019) के स्लीपर कोच एस-4 में मैरवा स्टेशन से सवार हुई थीं। संयोग से उसी कोच में गोरखपुर विश्वविद्यालय एनसीसी की 15 वीं गर्ल्स बटालियन की कैडेट्स भी सवार थीं। वे बरेली कैंप में शामिल होने जा रहीं थीं। गुरुवार सुबह करीब साढ़े छह बजे ट्रेन बस्ती स्टेशन के पास पहुंची तो नेहा को तेज प्रसव पीड़ा होने लगी। 
टीटीई ने इसकी सूचना बस्ती कंट्रोल रूम को दी लेकिन तब तक ट्रेन बस्ती स्टेशन से आगे बढ़ चुकी थी। प्रसव पीड़ा से कराहती नेहा को देख एनसीसी कैडेट्स मदद के लिए आगे आईं। इसके बाद गर्ल्स कैडेट इंस्ट्रक्टर (जीसीआई) सीमा राय के नेतृत्व में तृप्ति, नम्रता, नाजिया, सुधा गोंड, पल्लवी, मनीषा पाठक ने एक साथ मिल कर चिकित्सा कोर के साथ नेहा का सफल व सुरक्षित प्रसव कराया।
लखनऊ पहुंचने पर उन्होंने स्टेशन पर डॉक्टर बुलाकर नेहा की जांच कराई। उधर सूचना पाकर नेहा के घरवाले हरदोई स्टेशन पर पहुंच गए थे। परिवार वालों ने कैडेट्स को धन्यवाद दिया और मिठाई खिलाई। कैडेट्स ने अपनी देखरेख में हरदोई स्टेशन पर मां और नवजात को परिवार वालों के हवाले किया। यात्रा के दौरान कैडेट्स नवजात को गोद में लेकर दुलारती रहीं, सेल्फी भी ली।