लाखों रुपये को ऐसे डकार गई ये महिला, जब इसका खुलासा हुआ तो…

दिल्ली से सटे यूपी के गाजियाबाद स्थित लिंक रोड थाने की एसएचओ सहित सात पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। निलंबित महिला इंस्पेक्टर और उनके साथ सस्पेंड हुए बाकी सभी पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि इन सबने मिलकर लुटेरों से बरामद करीब एक करोड़ की रकम में से 60-65 लाख रुपये गायब करने की कोशिश की। मामले का भंडाफोड़ सीसीटीवी फुटेज और लुटेरों के बयान से हुआ। जिसके बाद सभी सात पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

जानिए क्या है पूरा मामला
loading...
मामला कुछ यूं है कि गाजियाबाद के थाना लिंक रोड के एटीएम से सीएमएस के कर्मचारियों द्वारा पैसा गबन कराए जाने के मामले में पुलिस ने 24/25 सितंबर की रात एसएचओ लक्ष्मी चौहान ने अन्य पुलिसकर्मियों के साथ राजीव सचान और आमिर को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने दोनों आरोपियों के पास से 45 लाख 81,500 रुपये की बरामदगी दिखाई। लेकिन, जब साहिबाबाद के सीओ राकेश कुमार मिश्र ने आरोपियों से पूछताछ की तो एसएचओ लक्ष्मी सिंह चौहान और उसके साथी पुलिसकर्मियों के भ्रष्टाचार का मामला खुलकर सामने आया।
पूछताछ में पता चला कि राजीव सचान से करीब 55 लाख रुपये और आमिर से 60 से 70 लाख रुपये बरामद किए गए थे। पूरे घटनाक्रम की पुष्टि गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बुधवार को की। एसएसपी ने बताया, “करीब साढ़े तीन महीने पहले बैंक के एटीएम में रकम जमा कराने वाले कुछ कर्मचारियों ने करीब 3 करोड़ रुपये गायब कर दिए थे। उस वक्त एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया था। उस मामले की जांच जारी थी।
क्षेत्राधिकारी की जांच के दौरान ही एक सीसीटीवी फुटेज देखा गया। उस फुटेज में लिंक रोड की थाना प्रभारी कुछ अन्य लोगों के साथ रकम को खुद ही इधर से उधर करती हुई साफ-साफ दिखाई दे रही हैं। एसएसपी ने कहा, “पूरे मामले में संदिग्ध भूमिका पाये जाने के चलते, लिंक रोड थाना प्रभारी इंस्पेक्टर सहित 7 पुलिसकर्मियों को पहले लाइन हाजिर किया गया था। बाद में इन सबको निलंबित करके उच्च-स्तरीय जांच करवा रहा हूं।