पिता की बंदूक को रोज देखती थी लड़की, एकदिन जो उसने किया उससे सभी हैरान

पिता की लाइसेंसी बंदूक से छात्रा ने खुद को गोली मारी
पीसीएस की तैयारी कर रही एक प्रतियोगी छात्रा ने शुक्रवार को पिता की लाइसेंसी बंदूक से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। वह इन दिनों पढ़ाई के कारण काफी तनाव में थी। पुलिस ने बंदूक कब्जे में ले ली है। कोतवाली क्षेत्र के गांव पूरनपुर निवासी जसवीर सिंह जाटव गांव में ही किराना की दुकान चलाता है। उसकी 20 वर्षीय बेटी पूनम पीसीएस की तैयारी कर रही थी। शुक्रवार को उसकी मां बसंती खेत पर गईं थीं, पिता दुकान पर था। 
loading...
इसी बीच उसने घर में रखी पिता की लाइसेंसी बंदूक निकाल ली और कुर्सी पर बैठकर सीने में गोली मार ली। प्रतियोगी छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई। गोली की आवाज सुनकर पिता दौड़ते हुए घर पहुंचा तो बेटी की खून से लथपथ देख उसकी चीख निकल गई। कुछ ही देर में गांव के लोग भी मौके पर एकत्र हो गए। लाइसेंसी बंदूक पास पड़ी थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बंदूक कब्जे में ले ली। प्रभारी निरीक्षक शरद मलिक का कहना है कि युवती के आत्महत्या करने की वजह अभी स्पष्ट नहीं हो सकी है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। बंदूक कब्जे में लेकर जांच की जा रही है।

परीक्षा से पहले हिम्मत हार गई पूनम
परिजनों व ग्रामीणों के मुताबिक पूनम बेहद होनहार छात्रा थी। पारिवारिक माहौल भी अच्छा है। उसका सपना पीसीएस अफसर बनकर समाज और देश के लिए कुछ अच्छा करने का था। बताया जा रहा है कि वह पढ़ाई को लेकर बीते कुछ दिनों से तनाव में थी। पूनम की लोअर सब-ऑर्डिनेट की परीक्षा एक अक्तूबर को आगरा में होनी थी। वह इसके लिए अमरोहा में कोचिंग भी कर रही थी। आशंका जताई जा रही है कि पढ़ाई को लेकर किसी तनाव के कारण ही उसने जान दे दी।

बचपन में छिन गया था मां का प्यार
पूनम व सुमित दो भाई बहन थे। ग्रामीणों के मुताबिक बसंती पूनम की सगी मां नहीं है। उसकी मां राजकुमारी का निधन उस समय हो गया था जब वह सिर्फ चार साल की थी। उसका पालन-पोषण उसकी दूसरी मां बसंती ने ही किया था। पूनम के पिता जसवीर सिंह पूरे घटनाक्रम के बाद बेहद गमजदा दिखे। कहा कि पता होता मेरी बंदूक से बेटी की मौत होगी तब कभी भी उसे घर में नहीं रखता। पुलिस अफसरों के सामने साफ कहा कि बेटी की हत्यारी इस बंदूक को अब कभी नहीं छुड़ाऊंगा।