पुल पर ही बैठे थे दोनों, अचानक लड़की कूदी और पीछे से लड़के ने भी लगा दी छलांग, ऐसा क्या कारण था

loading...
कानपुर के छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविधालय से बीसीए कर रही छात्रा ने गंगा में छलांग लगा दी। छात्रा को गंगा में कूदते देख मौके पर मौजूद गोताखोर उसकी तलाश में जुट गए, लेकिन तेज बहाव की वजह अभी तक छात्रा को खोजा नहीं जा सका। बताया जा रहा है कि छात्रा के गंगा में छलांग लगाने के कुछ मिनटों बाद ही एक लड़का भी गंगा में कूद गया, पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही है।

मां-बाप का हो चुका है देहांत, डिप्रेशन में रहती थी छात्रा
बांगरमऊ के हैबतपुर की रहने वाली दीक्षा कटियार कानपुर के मकड़ीखेड़ा में अपने रिश्तेदार के घर रह रही थी। कानपुर आने के बाद दीक्षा ने छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविधालय में बीसीए में दाखिला लिया था। दीक्षा के माता पिता का देहांत हो चुका था, जिसकी वजह से वो डिप्रेशन में रहती थी।

गंगा में लगा दी छलांग
सोमवार को दीक्षा यूनिवर्सिटी जाने की बात कहकर घर से निकली थी, लेकिन वो गंगा बैराज पहुंच गई। दीक्षा कुछ देर गंगा बैराज पर घूमने के बाद अचानक गंगा में छलांग लगा दी। बैराज के किनारे मौजूद गोताखोरों ने जब उसको गंगा में डूबते हुए देखा तो उसकी तलाश के लिए गंगा में कूद पड़े। गोताखोरों ने कई घंटों तक दीक्षा की तलाश की, लेकिन उसका कोई पता नहीं चल सका।

सुसाइड नोट में लिखी ये बातें
एसपी संजीव सुमन का कहना है कि दीक्षा के पास एक बैग था, जिसकी तलाशी लेने पर उसमें से सुसाइड नोट मिला है। सुसाइड नोट में साफ शब्दों में लिखा हुआ है, 'मैं किसी पर बोझ नहीं बनना चाहती।' इसको देखकर लगता है कि वो किसी बात को लेकर परेशान थी। गोताखोर उसको तलाश करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन तेज बहाव और ज्यादा पानी होने के कारण परेशानी हो रही है।