10वीं पास राजेश ने बना डाला किसानों के लिए खास ट्रैक्टर 'नंदी', जानिए इसका खासियत

हमीरपुर में किसानों को खेतों में बिजाई के लिए छोटा ट्रैक्टर 'नंदी' काम आएगा और ढलान वाले खेतों में भी ट्रैक्टर बखूबी से काम करेगा। हमीरपुर के राजेश कुमार निवासी झनियारा ने करीब चार सालों की मेहनत कर एक इतना छोटा ट्रैक्टर तैयार किया है जो कि कैरोसीन से लेकर पैट्रोल दोनों से काम करेगा।
loading...
मैट्रिक पास राजेश ने कड़ी मेहनत और लग्न के दम पर सस्ता पॉवर टिलर तैयार किया है। इतना ही नहीं छोटे से ट्रैक्टर 'नंदी' का वजन भी ज्यादा नहीं है और कम बजट में यह ट्रैक्टर अब बाजार में उपलब्ध है। राजेश कुमार की मानें तो जब भी पहाडी इलाकों में काम करने के लिए गए हैं तो ट्रैक्टर न पहुंचने से खेतीबाड़ी करने में दिक्कतें पेशआती थी तो इसे सोच कर छोटा ट्रैक्टर नंदी बनाने का आइडिया दिमाग में आया और इसी के चलते पिछले चार सालों से काम में लगे हुए थे। दसवीं पास राजेश कुमार का आइडिया काम आया है और बाजार में छोटा ट्रैक्टर देख हर कोई हैरान है।
डेढ़ हॉर्स पॉवर इंजन के इस टिलर की बाजार कीमत महज 33 हजार रुपए है। जबकि पांच एचपी इंजन वाले पॉवर टिलर की कीमत 45 हजार रुपए है। अगर यह प्रोजेक्ट स्वावलंबन योजना में शामिल होता है तो इसे बनाने वाले व्यक्ति को स्कीम के तहत 25 फीसदी अनुदान और अन्य सुविधाएं मिल सकती हैं। 
छोटे ट्रैक्टर 'नंदी' को बाजार में लांच करने के समय मैनेजर प्रितूश चैहान ,एक्सटेंशन आफिसर इंडस्ट्ररी प्रवेश कुमार भी मौजूद रहे। मैनेजर प्रितयूश ने बताया कि राजेश कुमार के द्वारा बनाए गए छोटे ट्रेक्टर को आइडिया को भेजा जाएगा और प्रेक्टिकल शेप में तैयार किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि आईडिया इंप्रूव होते ही इसे बाजार में पूरी तरह से उतारा जाएगा। एक्सटेंशन आफिसर इंडस्ट्ररी प्रवेश कुमार ने बताया कि छोटा ट्रैक्टर नंदी किसी भी खेत में जा सकता है और खेतो की बिजाई कर सकता है। उन्हेांने बताया कि छोटा ट्रेक्टर 50 हजार और 33 हजार रुपए में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के तह त केस को डाला गया है ताकि सर्टिफाइड होने के बाद किसी कंपनी के साथ एमओयू साइन करने की योजना है।