फोन पर पति से बात किया और फिर घर में ही पत्नी ने कर दिया ऐसा काम

चित्रकूट जिले में पति के न ले जाने से परेशान महिला ने मिट्टी का तेल डालकर खुदकशी कर ली। दहेज की मांग को लेकर ससुराल वालों ने महिला को एक साल से मायके में छोड़ रखा था। बुधवार को घटना से पहले महिला ने पति से मोबाइल पर बात की और फिर सूने घर में खुद को कैद कर आग लगा ली। राजापुर थाना क्षेत्र के लमियारी गांव निवासी चंद्रशेखर पांडेय की 26 वर्षीय पुत्री ऊषा देवी ने खुद को आग के हवाले कर खुदकशी कर ली। 
loading...
घर वालों ने बताया कि ऊषा की शादी मई 2015 को किशुनपुर थाना खागा जिला फतेहपुर निवासी विकास कुमार से हुई थी। ससुराल में कुछ दिन तक तो सब ठीक रहा बाद में मोटर साइकिल की मांग कर सास, ससुर व पति मारपीट करने लगे। अगस्त 2018 में ससुराल वालों ने ऊषा को मायके में छोड़ दिया। इसके बाद उसे नहीं ले गए। इस पर मायके वालों ने एक परिवाद भी दायर किया। बुधवार को ऊषा ने अपने पति विकास से मोबाइल पर बात की इसके बाद वह उदास थी। 
जब परिवार के सभी लोग खेतों में चले गए तो सूने घर में उसने मिट्टी का तेल डाल कर आत्मदाह कर लिया। धूंआ उठता देख पड़ोसियों ने शोर मचाया और परिवार को सूचना दी। भाग कर भाई पंकज आया और दीवार फांद कर घर के अंदर घुसा। आग का गोला बनी बहन को देख होश उड़ गए। किसी तरह आग बुझाई लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी। थाना प्रभारी गुलाब त्रिपाठी ने बताया कि पति से दूर होने के कारण वह टूट गई थी। हो सकता है इसी कारण आत्महत्या कर ली है।